छत्तीसगढ़: युवक की हुई संदिग्ध मौत, परिजनों ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप
Advertisement
trendingNow1/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh554464

छत्तीसगढ़: युवक की हुई संदिग्ध मौत, परिजनों ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

अंबिकापुर में कुछ दिन पहले कुंडला सिटी में 13 लाख की चोरी हुई थी. इस मामले में कोतवाली और साईबर सेल पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी थी. 

पुलिस कस्टडी में मौत के बाद पोस्टमार्टम और फिर पुलिस पर उठते सवाल को देखकर विपक्षी दल भाजपा और भाजयुमो कार्यकर्ता ने पूरे मामले पर बवाल शुरु कर दिया.

सुशील कुमार बक्सला/अंबिकापुर: छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर मे सोमवार को पुलिस कस्टडी मे चोरी के संदेही आरोपी ने आत्महत्या कर ली. जिसके बाद पुलिस ने बहुत हद तक मामले को दबाने का प्रयास किया. लेकिन कुछ घंटों में मामले ने ऐसा तूल पकड़ा कि इस संदिग्ध मौत पर जमकर बवाल हुआ. मामले मे होते बवाल, विरोध प्रदर्शन और चक्का जाम को देखकर सरगुजा संभाग के तीन जिलों के पुलिस अधिकारियों को अंबिकापुर बुलाना पड़ा. हालांकि, बाद में पुलिस वालों पर हुई कार्रवाई, न्यायिक जांच की बात और तात्कालिक मुआवजा राशि मिलने के बाद विरोध प्रदर्शन शांत हुआ. काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने शव को सड़क से उठाकर मृतक के घर के लिए रवाना किया. 

दरअसल, अंबिकापुर में कुछ दिन पहले कुंडला सिटी में 13 लाख की चोरी हुई थी. इस मामले में कोतवाली और साईबर सेल पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी थी. पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर भटगांव के सलका निवासी पंकज और उसके साथी इमरान को पूछताछ के लिए कस्टडी मे लिया था. इसी दौरान बीती आधी रात पुलिस कस्टडी मे रहते हुए पंकज का शव साईबर सेल कार्यालय के पीछे स्थित एक निजी अस्पताल परिसर मे फंदे मे टंगा मिला. जिसके बाद पुलिस ने आनन फानन में शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेजा. साथ ही पुलिस ने मृतक के परिजनों तक खबर पहुंचाई.

पुलिस कस्टडी में मौत के बाद पोस्टमार्टम और फिर पुलिस पर उठते सवाल को देखकर विपक्षी दल भाजपा और भाजयुमो कार्यकर्ता ने पूरे मामले पर बवाल शुरु कर दिया. शव ले जाते परिजनों को रोका और बनारस रोड पर भगवानपुर के पास शव को रखकर चक्का जाम कर दिया. करीब डेढ़ घंटे तक चले इस चक्का जाम में परिजन और भाजुयमो कार्यकर्ताओं की प्रशासन और पुलिस से कई बार नोंकझोंक हुई. इधर इस प्रदर्शन में परिजनों की तरफदारी मे उतरे भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. उनके मुताबिक उसकी मौत प्रताड़ना से हुई है और आत्महत्या की परिस्थितियां संदिग्ध हैं. 

गौरतलब है कि कुंडला सिटी मे हुई चोरी के मामले में कोतवाली पुलिस संदिग्धों को साईबर सेल के कार्यालय मे रखकर पूछताछ कर रही थी. पुलिस मृतक पंकज और उसके सहयोगी से पिछले 5 दिन से पूछताछ कर रही थी. मामले मे एक इंस्पेक्टर समेत 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.

Trending news