close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

15 साल से दो पत्नियों के साथ रह रहा है ये शख्स, राशनकार्ड में फंसा पेंच, अधिकारी परेशान

दिवान मुडा गांव के बालेश्वर सिन्हा की दो पत्नियां हैं, मालती सिन्हा और हिरन्दी सिन्हा, जो पिछले 15 साल से एक साथ रह रही हैं. दोनों सौतन हैं और दोनों का एक ही मैनुअल राशन कार्ड भी बना हुआ है, लेकिन...

15 साल से दो पत्नियों के साथ रह रहा है ये शख्स, राशनकार्ड में फंसा पेंच, अधिकारी परेशान
बालेश्वर सिन्हा (फोटो फाइल)

नई दिल्ली: गरियाबंद जिला के देवभोग दिवानमुडा में हैरान करने वाला मामला सामने आया है. नए राशन कार्ड में नाम जुड़वाने के लिए एक सौतन ने दूसरी सौतन के लिए जनपद और खादय विभाग में आवेदन लगाया है, जिसके बाद शासन प्रशासन भी पेशोपेश की स्थिति में है. एक आदमी के राशन कार्ड में कैसे दो पत्नियों का नाम जोडे, जबकि राशन कार्ड में दूसरी पत्नी की नाम जोड़ने के लिए कोई कालम ही नहीं बना है. 

मामला देवभोग विकासखंड के दिवान मुडा गांव का है. दिवान मुडा गांव के बालेश्वर सिन्हा की दो पत्नियां हैं, मालती सिन्हा और हिरन्दी सिन्हा, जो पिछले 15 साल से एक साथ रह रही हैं. दोनों सौतन हैं और दोनों का एक ही मैनुअल राशन कार्ड भी बना हुआ है, लेकिन राज्य में नई सरकार आने के बाद राशन कार्ड नवीनीकरण किया जा रहा है जिससे परेशानियां बढ़ गई हैं. नए राशन कार्ड में दो पत्नियों के लिए कोई कालम नहीं हैं. अब दोनों सौतन का नाम राशन कार्ड में जोड़ने के लिए शासन के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रही है. वहीं खाद्य विभाग के अधिकारी भी इस तरह का मामला सामने आने से असमंजस की स्थिति में हैं. 

gariaband chhattisgarh

बता दें कि नई सरकार आने के बाद राशन कार्ड नवीनी करण होने से कई लोगों की दिक्कतें बढ़ गई हैं. वहीं दिवानमुडा की इन सौतनों ने सरकार के सिस्टम पर सवाल उठा दिये हैं कि दूसरी पत्नी का नाम राशन कार्ड के कालम में क्यों नही है. बालेश्वर सिन्हा की पत्नी का कहना है कि अब हम कैसे गुजारा करेंगे. हम लोग दो सौतन हैं और पिछले 15 साल से साथ रहकर गुजारा कर रहे हैं लेकिन नई सरकार आने के बाद राशन कार्ड में नाम नहीं जुड़ पा रहा है. वहीं बालेश्वर सिन्हा का कहना है कि मेरी दो पत्नियां हैं और बच्चे नहीं होने के कारण मैंने दूसरी शादी की थी.