कवर्धा में बढ़ रही नक्सल मूवमेंट

खुद के पांव उखड़ते देख अब नकस्ली एक बार फिर कवर्धा के जंगलों में पैर जमाने की कोशिश कर रहे हैं, हालांकि पुलिस भी उनपर नज़र बनाए हुए हैं, पढ़िए पूरी ख़बर। 

कवर्धा में बढ़ रही नक्सल मूवमेंट
प्रतीकात्मक तस्वीर

कवर्धा: लाल आतंक के रडार पर एक बार फिर कवर्धा है राजनांदगांव से लगी जिले की सीमा और मध्यप्रदेश के बालाघाट ज़िले से लगी सीमा के आसपास नक्सलियों के मूवमेंट पहले ही रही है।

लेकिन अब खुद पर कसते शिकंजे के बाद नक्सलियों ने एक बार फिर से कवर्धा ज़िले के सरहदी क्षेत्रों में अपने पैर जमाने की कोशिश शुरू कर दी है।

कवर्धा के हरे भरे और घने जंगलों को अपने अनुकूल देखकर नक्सली एक बार फिर यहां का रुख कर रहे हैं।

पहले की तुलना में इस वक्त नक्सलियों का मूवमेंट ज़्यादा दर्ज किया जा रहा है।

ज़िले के दूर-दराज़ के इलाकों में नक्सली भोले-भाले आदिवासियों को भी बरगलाने की भरपूर कोशिश कर रहे हैं।

हालांकि सरहदी क्षेत्र के घने जंगलों में अब तक पुलिस टीम से नक्सलियों का सामना नहीं हुआ है।

लेकिन नक्सली इस क्षेत्र के जंगल को अपने लिए सुरक्षित पनाहगाह के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। 

पुलिस को भी नक्सलियों के इस मूवमेंट की जानकारी है लिहाज़ा इलाके में नक्सली पैर न जमा पाए इसके लिए पुलिस ने कवायद शुरू कर दी है।