मध्य प्रदेश के उपचुनाव में मायावती का बड़ा कदम, BSP ने सभी 24 सीटों पर अकेले लड़ने का किया ऐलान

बसपा सुप्रीमो मायावती ने मध्य प्रदेश का उपचुनाव अकेले लड़ने का फैसला किया है. उन्होंने गुरुवार को ऐलान किया कि बसपा किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी और सभी 24 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

मध्य प्रदेश के उपचुनाव में मायावती का बड़ा कदम, BSP ने सभी 24 सीटों पर अकेले लड़ने का किया ऐलान
बसपा सुप्रीमो मायावती.

हरीश दिवेकर/भोपाल: मध्य प्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी ने एंट्री मारकर मुकाबला दिलचस्प बना दिया है. बहुजन समाज पार्टी ने उपचुनाव वाली सभी 24 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करने का ऐलान किया है.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने मध्य प्रदेश का उपचुनाव अकेले लड़ने का फैसला किया है. उन्होंने गुरुवार को ऐलान किया कि बसपा किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी और सभी 24 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने शुरू की 'किसान न्याय योजना', कृषकों के खाते में डाले जाएंगे पैसे

बसपा जल्द ही टिकट के दावेदारों से आवेदन मंगाने शुरू करेगी. बसपा के मध्य प्रदेश अध्यक्ष रमाकांत पिप्पल ने बताया कि अगले सप्ताह दावेदारों से आवेदन लिए जाएंगे. सभी आवेदनों के बाद नामों का पैनल बनाकर राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को भेजा जाएगा. प्रत्याशियों के नामों पर अंतिम फैसला मायवती लेंगी. बसपा के इस ऐलान के बाद कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए मुश्किलें बढ़ गई हैं.

आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से बगावत कर बीते 10 मार्च को भाजपा का दामन थाम​ लिया था. उनके साथ 22 कांग्रेसी विधायकों ने भी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. बाद में ये सभी 22 नेता भाजपा में शामिल हो गए थे. इस घटनाक्रम के बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई. बीते 20 मार्च को सिर्फ 15 महीने सरकार चलाने के बाद कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

महाकाल मंदिर के सहायक प्रशासक जोशी पर गिरी गाज, लॉकडाउन में श्रद्धालुओं को करा रहे थे दर्शन

मध्य प्रदेश में दो विधायकों के देहांत के बाद दो विधानसभा सीटें पहले ही खाली हुई थीं. कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद यह संख्या 24 हो गई थी. अब इन सीटों पर आने वाले कुछ हफ्तों में चुनाव होने हैं. यह उपचुनाव शिवराज सरकार और कांग्रेस पार्टी दोनों के लिए काफी अहम है. भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए इन 24 में कम से कम 10 सीटें जीतनी ही होंगी. वहीं कांग्रेस को सत्ता में वापसी के लिए 24 की 24 सीटें जीतनी होंगी.

WATCH LIVE TV