Weather Update:लौटता मानसून बढ़ाएगा ठंड, अक्टूबर में नहीं दिखा सर्दियों का असर

अक्टूबर में औसत तापमान 33 से 30 के बीच रहने से मौसम में गर्मी देखने को मिली. मौसम विभाग का कहना है कि अल नीनो और ला नीना से मौसम चक्र में परिवर्तन देखने को मिल सकता है.

Weather Update:लौटता मानसून बढ़ाएगा ठंड, अक्टूबर में नहीं दिखा सर्दियों का असर
सांकेतिक तस्वीर

रायपुर/भोपालः मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में ठंड ने दस्तक तो दे दी है. लेकिन बीते अक्टूबर, दोनों ही प्रदेशों में ठंड ने कुछ खास असर नहीं छोड़ा है. मौसम विभाग ने बताया है कि रायपुर में मानसून लौटने के बाद उत्तरी हवाओं से शहर में ठंड बढ़ने लगी है. जिसका असर मध्य प्रदेश में भी देखने को मिलने वाला है. हर साल अक्टूबर के अंत तक दोनों ही प्रदेशों में ठंड का असर देखने को मिलता है, लेकिन इस बार के तापमान से प्रदेश में गर्मी का असर देखने को मिला. 

नवंबर-दिसंबर में बरसेगी ठंड
यहां रायपुर में इन दिनों शहर की घनी बसाहट की तुलना में गांव और आउटर इलाकों में ज्यादा ठंड महसूस होने लगी है. तो वहीं भोपाल में औसतन तापमान 33 से 30 डिग्री के बीच रहा था. लेकिन ग्वालियर-चंबल और निमाड़-मालवा के ग्रामीण इलाकों में इन दिनों ठंड देखने को मिलने लगी है. मौसम विभाग के अनुसार घनी आबादी वाले इलाकों के मुकाबले इस वक्त कम आबादी वाले गांवों में ज्यादा ठंड देखने को मिली है. 

ये भी पढ़ेंः- मजबूर पिताः जेब में पैसे नहीं, प्रसूता को कचरा गाड़ी में पहुंचाया अस्पताल, लेकिन!

दिसंबर में गिरेगा पारा
मध्य प्रदेश में अक्टूबर में औसत तापमान 33 से 30 के बीच रहने से मौसम में गर्मी देखने को मिली. मौसम विभाग का कहना है कि अल नीनो और ला नीना से मौसम चक्र में परिवर्तन देखने को मिल सकता है. इंडोनेशिया और आसपास के देशों में ला नीना के असर से इस बार बारिश औसत से अधिक हुई. जिसका असर नवंबर में देखने को मिलेगा. और दिसंबर में कोल्ड डे और सीवियर कोल्ड डे रहने वाले है. यहां तक कि रात का पारा 7 से 5 डिग्री के बीच जा सकता है. 

क्या होता है कोल्ड डे और सीवियर कोल्ड डे
कड़ाके की ठंड पड़ने वाले दिनों को कोल्ड डे और सीवियर कोल्ड डे कहा जाता है. धरती पर जब दिन में तापमान नॉर्मल तापमान से 4.5 डिग्री से कम और रात का तापमान 10 डिग्री से कम होने पर कोल्ड डे होता है. साथ ही दिन का तापमान नॉर्मल से 6.5 डिग्री से कम और रात का 10 सामान्य से 10 डिग्री से कम होने पर सीवियर कोल्ड डे कहा जाता है. 

ये भी पढ़ेंः-Alert: रेल में नहीं किया इन नियमों का पालन, तो सीधा पहुंचेंगे 5 साल के लिए जेल

ये है अल-निनो और ला-निना
अल नीनो का अर्थ होता है शिशु या बालक, जो स्पैनीश भाषा से लिया गया है. यह समुद्र में होने वाली उथल-पुथल है और इससे समुद्र के सतही जल का ताप सामान्य से ज्यादा हो जाता है. यह दक्षिण-पश्चिम मानसून पर विपरीत प्रभाव डालता है. वहीं ला-निना इसके ठीक विपरित है, इसके कारण समुद्री सतह का तापमान पूर्वी प्रशांत महासागर के सामान्य तापमान से कम होना होता है. इसका प्रभाव भी भूमध्य रेखीय एवं उप भूमध्य रेखीय क्षेत्र में पड़ता है. 

WATCH LIVE TV