मां ने रात 3 बजे चैटिंग करने पर छीन लिया मोबाइल, तो बेटी ने 6वीं मंजिल से कूदकर दे दी जान

गुरुवार की रात जब शिखा अपनी बेटी के साथ घर पर थीं, तब रात के तीन बजे उन्होंने बेटी को मोबाइल पर किसी से चैटिंग करते देखा. इस पर शिखा को गुस्सा आ गया और उसने बेटी को फटकार लगाते हुए मोबाइल छीनकर अपने पास रख लिया और सो गई.

मां ने रात 3 बजे चैटिंग करने पर छीन लिया मोबाइल, तो बेटी ने 6वीं मंजिल से कूदकर दे दी जान
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बीते गुरुवार-शुक्रवार की दरम्यानी रात को एक मां को अपनी बेटी को इस्तेमाल करने से मना करना बेटी को इतना नागवार गुजरा की उसने अपनी जान दे दी. मिली जानकारी के मुताबिक कोलार थाना के जानकी अपार्टमेंट में रहने वाली 8वीं क्लास की स्टूडेंट (14 वर्ष) रात के तीन बजे मोबाइल पर चैटिंग कर रही थी, इस पर लड़की की मां ने उसे आधी रात मोबाइल का इस्तेमाल करने पर डांट लगाते हुए मोबाइल छुड़ा लिया और मोबाइल अपने पास रख लिया. इस बात पर लड़की को इतना गुस्सा आया कि उसने घर की छठवीं मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी.

घटना की जानकारी देते हुए कोलार थाना पुलिस ने बताया कि जानकी अपार्टमेंट में रहने वाली शिखा तिवारी यहां अपनी 8वीं क्लास की बेटी के साथ अकेली रहती हैं. शिखा की बेटी सेंटजोसफ कॉन्वेंट स्कूल ईदगाह हिल्स में पढ़ाई कर रही थी. वहीं शिखा के पति ओडिशा में डब्ल्यूएचओ में डॉक्टर हैं, जबकि वह खुद गृहणी और सोसाइटी की उपाध्यक्ष हैं.

प्रॉपर्टी विवाद में महिला को लोग कर रहे थे परेशान, तंग आकर लगा ली फांसी

ऐसे में गुरुवार की रात जब शिखा अपनी बेटी के साथ घर पर थीं, तब रात के तीन बजे उन्होंने बेटी को मोबाइल पर किसी से चैटिंग करते देखा. इस पर शिखा को गुस्सा आ गया और उसने बेटी को फटकार लगाते हुए मोबाइल छीनकर अपने पास रख लिया और सो गई. इस पर बेटी को गुस्सा आया और उसने छठवीं मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी.

मुंगेरः महिला ने खुदकुशी के लिए दो बच्चों के साथ घर में लगाई आग, सभी हुए जल कर खाक

पुलिस की शुरुआती जांच में यह भी सामने आया है कि मां से विवाद के बाद छात्रा ने करीब एक घंटे तक खुद को बालकनी में ही बंद रखा. मां ने दरवाजा खुलवाने की कोशिश की, लेकिन छात्रा ने दरवाजा नहीं खोला और कुछ देर बाद बालकनी से कूदकर जान दे दी. वहीं छात्रा की मौत के बाद उसकी मां शिखा तिवारी सदमें में है और चुप बैठी है. बेटी की मौत के बाद से वह न तो किसी से ज्यादा बात कर रही है और न ही किसी से मिल रही है. शिखा का कहना है कि आखिर उसने ऐसी क्या इतनी बड़ी गलती की थी, कि उसकी बेटी ने यह कदम उठा लिया.