close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: राह चलते मनचलों या घरेलू हिंसा से हैं परेशान तो 'बेटी की पेटी' में मिलेगा हर समस्या का समाधान

 इन पेटियों में कोई भी ऐसी शोषित और पीड़ित बेटियां जो अपनी परेशानियां किसी को बताने में हिचकिचाती हैं, वे इन पेटियों में लिखकर अपनी शिकायत या परेशानी या अपने सुझाव डाल सकेंगी. 

MP: राह चलते मनचलों या घरेलू हिंसा से हैं परेशान तो 'बेटी की पेटी' में मिलेगा हर समस्या का समाधान
आगर-मालवा में हर सरकारी स्कूल और दफ्तर के बाहर 'बेटी की पेटी' लगाई गई है.

रतलामः आगर-मालवा में प्रशासन की बेटियों के लिए एक अनोखी पहल देखने को मिली है, जहां जिला प्रशासन की ओर से लड़कियों के छात्रावासों, स्कूलों और जिले के समस्त थानों के बाहर ''बेटी की पेटी'' लगाई गई है. इन पेटियों में कोई भी ऐसी शोषित और पीड़ित बेटियां जो अपनी परेशानियां किसी को बताने में हिचकिचाती हैं, वे इन पेटियों में लिखकर अपनी शिकायत या परेशानी या अपने सुझाव डाल सकेंगी. यह ताला बंद पेटियां विभाग के प्रमुखों की निगरानी में रहेंगी.

आगर-मालवा के कलेक्टर संजय कुमार की पहल पर बेटियों की सुरक्षा को लेकर यह नवाचार किया गया है. कलेक्टर के अनुसार कई बार लड़कियां डर के कारण अपने साथ हो रहे शोषण और परेशानियां किसी को भी बताने में हिचकिचाती हैं. हमारा उद्देश्य विशेषकर कन्याओं के छात्रावास और स्कूलों में बच्चियों के साथ हो रही परेशानियों उनके शोषण को किसी भी तरह से सामने लाकर उनकी समस्याओं का हल निकालना है, जिससे उनमें असुरक्षा की भावना को दूर कर सुरक्षित माहौल तैयार किया जा सके.

देखें LIVE TV

MP: 'Beti Ki Peti' set up to solve women's problems Outside government offices and schools

MP: फिर बढ़ा कमलनाथ सरकार का सिरदर्द, अब तहसीलदार हुए नाराज, दी हड़ताल की चेतावनी

इस पहल को आगे बढ़ाते हुए पूरे जिले के थानों में भी यह पेटियां लगाई गई हैं. जिला पुलिस अधीक्षक की ओर से देर शाम संदेश देकर सभी थानों में इन बेटी की पेटियों को लगवाया गया है. जिससे ऐसी शोषित महिलाएं या लड़कियां जो अपने साथ हो रहे शोषण को किसी को बताने में हिचकिचाती हैं, वे इन पेटियों में अपनी परेशानियों को लेकर पत्र लिखकर डाल सकती है. जिसे थाने के वरिष्ठ अधिकारी खोलेंगे और पीड़िताओं की परेशानियां दूर करने के प्रयास किए जाएंगे.