BJP में बाहरियों की एंट्री से यह वरिष्ठ नेता नाराज, राज्य नेतृत्व को दिलाई अटल-आडवाणी की याद

मध्य प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को नसीहत देते हुए भारद्वाज ने कहा, ''यह पार्टी कुशाभाऊ ठाकरे, दीनदयाल उपाध्याय, सुंदरलाल पटवा, अटल बिहारी वाजपेई और लालकृष्ण आडवाणी के विचारधारा वाली पार्टी है. ये सभी कहा करते थे, सरकारें भले ही कुर्बान हो जाएं लेकिन पार्टी की मूल भावना हमेशा जिंदा रहनी चाहिए.''

BJP में बाहरियों की एंट्री से यह वरिष्ठ नेता नाराज, राज्य नेतृत्व को दिलाई अटल-आडवाणी की याद
ग्वालियर के वरिष्ठ भाजपा नेता कुलवीर भारद्वाज.

ग्वालियर: भाजपा के वरिष्ठ नेता कुलवीर भारद्वाज ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो रहे नेताओं को तत्काल मंत्री पद या निगम मंडलों में जगह दिए जाने को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा कि जो लोग कांग्रेस छोड़ बीजेपी की विचारधारा से प्रभावित होकर पार्टी में शामिल हो रहे हैं उनका स्वागत है, लेकिन उनकी हैसियत एक अदने से कार्यकर्ता के तौर पर ही होनी चाहिए. भाजपा नेता कुलवीर भारद्वाज ने कहा कि दूसरे दलों से भाजपा में आने वाले नेताओं को तत्काल ही मंत्री पद या निगम मंडल में जगह नहीं दी जानी चाहिए, क्योंकि ऐसा होने से मूल कार्यकर्ता अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है.

सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया का उपचुनाव के बाद सत्ता में आने को लेकर कांग्रेस पर तंज, कही ये बात

मध्य प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को नसीहत देते हुए भारद्वाज ने कहा, ''यह पार्टी कुशाभाऊ ठाकरे, दीनदयाल उपाध्याय, सुंदरलाल पटवा, अटल बिहारी वाजपेई और लालकृष्ण आडवाणी की विचारधारा वाली पार्टी है. ये सभी कहा करते थे 'सरकारें भले ही कुर्बान हो जाएं लेकिन पार्टी की मूल भावना हमेशा जिंदा रहनी चाहिए.' लेकिन आप लोगों ने सत्ता की लोलुपता के चलते इन सभी भाजपा के महापुरुषों की बात को भुला दिया और कांग्रेस से आए लोगों को पद बांटने में लगे हुए हैं.''

BSP विधायक रामबाई ने दी BJP नेता को खुली चुनौती, 'मां का दूध पिया है तो सामने आकर लड़े'

भाजपा नेता कुलवीर भारद्वाज ने कहा, ''यदि आपको सत्ता ही चाहिए तो आप सेकंड कांग्रेस बना लीजिए और आप अपने कांग्रेसी मित्रों के साथ उसी में चले जाइए. यदि यही सब चलता रहा तो मैं इसे कतई बर्दाश्त नहीं करूंगा. मैं लगातार इस बात का विरोध करूंगा.'' भारद्वाज ने कहा, ''मैं पार्टी छोड़कर नहीं जाऊंगा. पार्टी से मुझे निष्कासित कर दिया जाए यह अलग बात है.'' आपको बता दें कि कुलवीर भारद्वाज साल 1967 में जनसंघ के साथ जुड़े थे. तबसे वह पार्टी के साथ बने हुए हैं, जो बाद में चलकर भाजपा बनी. इस दौरान वह बीजेपी के तमाम पदों पर काम करते रहे हैं.

WATCH LIVE TV