MP सरकार की चिकित्सा मंत्री बोलीं, 'डॉक्टरों ने ग्रामीण क्षेत्रों में सेवा नहीं दी तो...'

कांग्रेस के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के मामले पर कमलनाथ सरकार की मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया.

MP सरकार की चिकित्सा मंत्री बोलीं, 'डॉक्टरों ने ग्रामीण क्षेत्रों में सेवा नहीं दी तो...'
(फाइल फोटो)

शिवपुरी: कमलनाथ सरकार में चिकित्सा मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में बैठक लेने पहुंची थीं. इसके बाद मंत्री वैजयलक्ष्मी साधौ ने मीडिया से बात की. एक सवाल के जवाब में मंत्री साधो ने कहा कि अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं लेकिन, स्टाफ की कमी से जूझ रहे हैं. मंत्री ने कहा कि नियम बना रहे हैं, अब जो भी छात्र मेडिकल कॉलेज से निकलेंगे, उन्हें एक साल तक ग्रामीण क्षेत्रों में सेवा देनी होगी. अगर वह ऐसा नहीं करेंगे तो, उनका सर्टिफिकेट कैंसिल किया जाएगा.

वहीं, कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रदेश अध्यक्ष बनने को लेकर मंत्री साधौ ने कहा कि इसका फैसला वरिष्ठ नेतृत्व लेगा. वह तो मंत्रिमंडल का एक अदना सा हिस्सा हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में जितने भी दावेदार हैं, वह सभी क्वालीफाई हैं. कोई भी डिस्क्वालीफाई नहीं है. हालांकि, मंत्री साधौ इस मामले पर साफतौर पर कुछ भी कहने से बचती रहीं.

वहीं, सिंधिया सहित अन्य कुछ कांग्रेस नेताओं द्वारा सोशल वॉल बदलने को लेकर मंत्री साधौ से सवाल किया गया कि आप कब बदल रही हैं. इस पर उन्होंने कहा कि जहां तक मेरा सवाल है, मेरी रग-रग और खून-खून में कांग्रेस बसी है और वह कांग्रेसी हैं. उनके पिता ने देश को आजाद कराने में योगदान दिया और उसके बाद वे विधायक रहे. अब वह खुद भी विधायक हैं.