सरकार का बड़ा फैसला, छात्रों की फीस जमा नहीं हुई? फिर भी परीक्षा देने से नहीं रोक सकते निजी स्कूल

मध्य प्रदेश में छठवीं से आठवीं तक के स्कूल जल्द ही खुल सकते हैं.

सरकार का बड़ा फैसला, छात्रों की फीस जमा नहीं हुई? फिर भी परीक्षा देने से नहीं रोक सकते निजी स्कूल

भोपालः सरकार ने अहम फैसला लेते हुए आदेश दिया है कि यदि 9वीं से 12वीं के छात्रों ने फीस नहीं भरी है तो निजी स्कूल उन्हें परीक्षा देने से नहीं रोक सकते हैं. शिक्षा विभाग ने इस संदर्भ में आदेश जारी कर दिया है.  

सरकार ने यह आदेश जारी किया है कि 9वीं से 12वीं के छात्रों को स्कूल फीस नहीं भरने के कारण परीक्षा से वंचित नहीं किया जा सकेगा. शिक्षा विभाग ने मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुसार कहा है कि निजी स्कूल 6 आसान किस्तों में फीस ले सकेंगे. लेकिन अगर फीस की किस्त का भुगतान नहीं होता है तो निजी स्कूल संचालक छात्रों को परीक्षा देने से नहीं रोक सकेंगे.

अपने निर्देश में सरकार ने ये भी कहा है कि अगर कोई अभिभावक फीस का भुगतान करने में सक्षम नहीं है तो वह स्कूल में आवदेन देकर स्कूल फीस में छूट की अपील कर सकते हैं. स्कूलों को भी निर्देश है कि वह सहानुभूति पूर्वक अभिभावकों की अपील पर विचार करेंगे.

बता दें कि कोरोना महामारी के दौरान लंबे समय तक स्कूल बंद रहे और ऑनलाइन क्लासेज चलीं. ऐसे में कुछ निजी स्कूलों द्वारा छात्रों से फीस की मांग की जा रही है. ऐसे कई मामले भी सामने आ चुके हैं, जहां स्कूल फीस नहीं भरने पर निजी स्कूलों ने छात्रों को परीक्षा में नहीं बैठने देने की बात कही है. चूंकि अभी 9वीं और 12वीं के स्कूल ही खुले हैं. 

जल्द खुल सकते हैं छठवीं और आठवीं के स्कूल
मध्य प्रदेश में छठवीं से आठवीं तक के स्कूल जल्द ही खुल सकते हैं. सरकार इस पर विचार कर रही है और जल्द ही इस मामले में कोई फैसला ले सकती है. स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि इस पर विचार चल रहा है और जल्द ही इस पर फैसला लिया जाएगा. बता दें कि कोरोना महामारी के चलते लंबे समय से कक्षाएं नहीं चल रही हैं.