close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP की भावना डेहरिया ने फतह की अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो, CM कमलनाथ ने दी बधाई

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, 'प्रदेश के छिन्दवाड़ा की पर्वतारोही बेटी भावना डेहरिया ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर दीपावली के दिन फतह हासिल कर तिरंगा लहराया. यह निश्चित ही देश-प्रदेश के लिए गौरव और गर्व का क्षण है.'

MP की भावना डेहरिया ने फतह की अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो, CM कमलनाथ ने दी बधाई

भोपाल: मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा (Chhindwara) की रहने वाली 27 साल की भारतीय पर्वतारोही भावना डेहरिया (Bhavna Dehariya) ने अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो (Mount Kilimanjaro) पर दीपावली के दिन फतह हासिल कर भारत का तिरंगा लहराया. भावना की इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने भी खुशी जताई है और भावना को उनकी इस फतह पर बधाई दी है. 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्विटर पर भावना को बधाई देते हुए लिखा, 'प्रदेश के छिन्दवाड़ा की पर्वतारोही बेटी भावना डेहरिया ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर दीपावली के दिन फतह हासिल कर तिरंगा लहराया. यह निश्चित ही देश-प्रदेश के लिए गौरव और गर्व का क्षण है.'

गौरतलब है कि, समुद्र तल से 5,895 मीटर यानी 19 हजार 341 फीट ऊंची उहुरू शिखर पर भारतीय पर्वतारोही भावना डेहरिया ने 27 अक्टूबर 2019 दीपावली के दिन शिखर पर दीपक रख कर इकोफ़्रेंडली दीवाली मनाने का मैसेज दिया. साथ ही पॉलीथिन के हर व्यक्ति को अपने स्तर पर कम उपयोग करने का आह्वान किया.

देखें LIVE TV

भोपाल से फिजिकल एजुकेशन में एमपीइडी मास्टर्स की पढ़ाई करने वाली भावना डेहरिया ने अकेले ही यह चढ़ाई पूरी की. इस दौरान उनके साथ तंजानिया के गाइड थे. भावना ने यह ट्रैक 23 अक्टूबर को तंजानिया से शुरू किया और 27 अक्टूबर को रात 12 बजे आखिरी कैम्प किबो हट से फाइनल चढ़ाई शुरू कर 7 घंटे 43 मिनट में किलिमंजारो की सबसे ऊंची चोटी उहुरू शिखर पर सुबह 7:43 बजे समिट किया. 

मध्य प्रदेश का 64वां स्थापना दिवस कल, 11 शहरों में होगा 'सिटी वॉक फेस्टिवल' का आयोजन

बतौर भारतीय महिला इतना कम समय में यह चढ़ाई अपने आप में एक रिकॉर्ड है. भावना डेहरिया ने इसी साल 22 मई को दुनिया की सबसे ऊंचे शिखर माउंट एवेरेस्ट (8848 मी) पर भी फतेह हासिल की थी. उसी दिन समिट करने वाली मध्यप्रदेश की प्रथम महिलाओं में एक होने का स्थान पाया है.