close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: अनूपपुर के किसान को खुदाई में मिले मुगलकालीन चांदी के सिक्के, थाने में कराया जमा

जानकारों ने इन सिक्कों की कीमत करोड़ों में बताई है. ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह सिक्के काफी महत्वपूर्ण हैं, जिसके चलते इनका महत्व और भी बढ़ जाता है. 

MP: अनूपपुर के किसान को खुदाई में मिले मुगलकालीन चांदी के सिक्के, थाने में कराया जमा
सिक्कों में उर्दू या अरबी भाषा मे लिपि लिखी हुई है

अनूपपुरः मध्य प्रदेश के अनूपपुर के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत पिपरिया के निवासी राधेश्याम पांण्डेय को घर में सेफ्टिक टैंक की खुदाई के दौरान 261 नग मुगलकालीन चांदी के सिक्के मिले. जिसे राधेश्याम पाण्डेय ने कोतवाली पहुंचकर जमा कराते हुए ईमानदारी की नई मिसाल पेश की है. बता दें खुदाई में मिले ये सिक्के सिक्के लगभग तीन किलो वजन के हैं, जिसका ऐतिहासिक महत्व समझते हुए राधेश्याम ने इन्हें पुलिस के हवाले कर दिया. वहीं सिक्कों की गिनती करने के बाद पुलिस ने इन्हें जांच के लिए भेज दिया है. वहीं पुलिस के मुताबिक जानकारों ने इन सिक्कों की कीमत करोड़ों में बताई है. ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह सिक्के काफी महत्वपूर्ण हैं, जिसके चलते इनका महत्व और भी बढ़ जाता है. 

उज्‍जैन: सावन में महाकाल की नगरी में लगा भक्‍तों का तांता, यहां पूरी होती है हर इच्‍छा

बता दें राधेश्याम पांडेय गांव के शंकर मन्दिर में पुजारी हैं. उन्हें यह सिक्के 3-4 दिन पहले अपने पुश्तैनी मकान में शौचालय के लिए गड्ढे की खुदाई के दौरान मिले हैं. राधेश्याम के मुताबिक उन्हें यह सिक्के एक मिट्टी के बर्तन में मिले थे, जो कि ऊपर से बंद था, ऐसे में जब उन्होंने यह खोला तो पाया कि इसमें काफी मात्रा में चांदी के सिक्के हैं, जिनमें अरबी भाषा में कुछ लिखा है. जिसके बाद उन्होंने ये सिक्के थाने में जमा करा दिए. वहीं जब सिक्कों के बारे में पुलिस अधीक्षक को पता चला पर उन्होंने जानकारी मिलने पर सिक्कों की जांच की तो पाया कि सिक्के चांदी के हैं और काफी पुराने हैं. जिस पर पुलिस अधीक्षक ने राधेश्याम की तारीफ की है.

महाराणा प्रताप की 'घास की रोटी' में थी असीम ताकत, इसीलिए आज भी हो रही है उसकी बात

बता दें ऐतिहासिक महत्व के ये सिक्के 261 की संख्या में है. जिसका कुल वजन कोतवाली में कराया गया है. सिक्कों का कुल वजन 2 किलो 9 सौ 95 ग्राम था. जिले कोतवाली पुलिस ने पंचनामा बना कर जप्त कर लिए हैं. राधेश्याम पांडेय और प्रत्यक्ष दर्शियों की मानें तो ये सिक्के मुगल कालीन हो सकते हैं. क्योंकि इन सिक्कों में उर्दू या अरबी भाषा मे लिपि लिखी हुई है. जिसे समाचार लिखे जाने तक कोई नही पढ़ पाया था. वहीं राधेश्याम पांण्डेय ने बताया कि 'घर में सैप्टिक टैंक की खुदाई के दौरान हमें ये सिक्के प्राप्त हुए हैं जिसे हम अनूपपुर कोतवाली में जमा करा दिए है. ये सिक्के ऐतिहासिक महत्व के हैं.'