महिला अपराध पर नकेल कसने पुलिस अपनाएगी नया तरीका, बनेगी अपराधियों के परिजनों की कुंडली

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीते दिनों भोपाल के मिंटो हॉल में आयोजित महिला सम्मान कार्यक्रम में कहा था कि मध्य प्रदेश में अपराधियों पर अंकुश लगाने का कार्य पूरी ताकत से किया जाएगा. आम लोगों को कानून के राज का अहसास करवाया जाएगा.

महिला अपराध पर नकेल कसने पुलिस अपनाएगी नया तरीका, बनेगी अपराधियों के परिजनों की कुंडली
सांकेतिक तस्वीर.

भोपालः मध्य प्रदेश में महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराध पर अंकुश लगाने के लिए राज्य पुलिस नया तरीका अपना रही है. अब पुलिस अपराध करने वालों के परिजनों की भी कुंडली बनाएगी. पुलिस ऐसे अपराधियों का डोजियर, आपराधिक रिकॉर्ड की फाइल और हिस्ट्री शीट तैयार करेगी. इसके लिए राज्य स्तर पर खाका तैयार किया जा रहा. प्लान तैयार कर जल्द ही प्रदेश के सभी थानों में भेजा जाएगा. महिलाओं के विरुद्ध अपराध करने वालों का पूरा डेटाबेस बनेगा. अपराधियों को हर 15 दिन में डोजियर भरने थाने आना होगा. पुलिस थाने में डोजियर भरने वाले अपराधियों की फोटो भी क्लिक करेगी. 

भोपाल के 11 थाना क्षेत्रों से धारा 144 और तीन से कर्फ्यू हटा, 5 या ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी

मुख्यमंत्री शिवराज ने बीते दिनों की थी महिला सुरक्षा को लेकर बड़ी घोषणाएं
आपको बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीते दिनों भोपाल के मिंटो हॉल में आयोजित महिला सम्मान कार्यक्रम में कहा था कि मध्य प्रदेश में अपराधियों पर अंकुश लगाने का कार्य पूरी ताकत से किया जाएगा. आम लोगों को कानून के राज का अहसास करवाया जाएगा. उन्होंने इस दौरान कहा था कि बालिकाओं और महिलाओं से जुड़े अपराधों में लिप्त लोग नरपिशाच हैं. उन्हें किसी भी स्थिति में न छोड़ा जाए. बलात्कारियों को तो फांसी ही मिलना चाहिए. 

विश्वास सारंग ने Tandav को लेकर लिखा केंद्र सरकार को पत्र, 'कोड ऑफ कंडक्ट' बनाने की मांग

पीड़ित परिवार को मिलेगा अधिकार पत्र, पुलिस हर कार्रवाई का अपडेट देगी
मुख्यमंत्री ने कहा था कि मध्य प्रदेश में गुम बालिकाओं के संबंध में विस्तार से समीक्षा की गई है. अपहृत बच्चों की बरामदगी के लिए चेकलिस्ट के अनुसार कार्रवाई होगी. पुलिस द्वारा परिजनों को एक अधिकार पत्र दिया जाएगा जिसमें जानकारी रहेगी कि कितने दिनों में क्या.क्या कार्रवाई की गई है. प्रत्येक 15 दिन में थाना प्रभारी और प्रत्येक 30 दिन में एसडीओपी केस डायरी के साथ बैठेंगे. इसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा कि अधिकार पत्र के अनुसार कार्रवाई हुई अथवा नहीं.

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर उज्जैन मुस्लिम धर्मगुरु का विवादित बयान,''फतवा जारी होने पर लगवाएंगे टीका''

महिलाओं को संकट की सूचना देने के लिए पैनिक बटन की व्यवस्था हो रही
मुख्यमंत्री ने कहा था कि वाहनों में पैनिक बटन के माध्यम से महिलाओं को संकट की स्थिति में सूचना देने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने बताया था कि महिला अपराधों की सूचना देने के लिए वर्तमान में अलग.अलग हेल्पलाइन नंबर संचालित हैं, इनको एक किए जाने पर भी विचार किया जा रहा है. काम के सिलसिले में जिलों या राज्य से बाहर जाने वाली लड़कियों एवं महिलाओं के रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था भी लागू होगी. वन स्टाप सेंटर को सुदृढ़ बनाया जाएगा.

WATCH LIVE TV