निमाड़: बीजेपी के दुर्ग में कांग्रेस परचम लहराने को बेताब

विधानसभा चुनाव 2013 की बात करें तो निमाड़ क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली 16 विधानसभा सीटों में 11 पर बीजेपी को जीत मिली थी, जबकि बाकी 5 सीटों पर कांग्रेस का परचम लहराया था.

निमाड़: बीजेपी के दुर्ग में कांग्रेस परचम लहराने को बेताब

नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के नतीजे आने में महज चंद घंटे शेष रह गए हैं. 11 दिसंबर की दोपहर तक साफ हो जाएगा कि निमाड क्षेत्र में बीजेपी का परमच कायम रहता है या फिर कांग्रेस इस इलाके में वापसी करने में कामयाब हो जाती है. मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2013 की बात करें तो बीजेपी निमाड़ क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली विधानसभा सीटों पर अपना परचम लहराने में कामयाब रही थी. बीते विधानसभा चुनाव 2013 की बात करें तो निमाड़ क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली 16 विधानसभा सीटों में 11 पर बीजेपी को जीत मिली थी, जबकि बाकी 5 सीटों पर कांग्रेस का परचम लहराया था. इस चुनाव में खंडवा और बुरहानपुर जिले की सभी छह सीटों पर बीजेपी कब्‍जा जमाने में कामयाब रही थी, जबकि खरगौन जिले की 6 विधानसभा सीटों में बीजेपी और कांग्रेस को 3-3 सीटें मिली थी. वहीं खंडवा क्षेत्र के बड़वानी जिले की 4 सीटों पर 2 में बीजेपी और 2 पर कांग्रेस ने सफलता हासिल की थी.

MP GRFd

बीएसपी बढ़ा सकती है कांग्रेस और बीजेपी की मुश्किलें
मध्‍य प्रदेश के निमाड़ क्षेत्र में बीएसपी का बहुत बड़ा जनाधार तो नहीं है, लेकिन इतनी मौजूदगी जरूर है कि वह कांग्रेस और बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी कर सके. बीते चुनाव में खंडवा और बुरहानपुर जिले की छह विधानसभा सीटों पर बीएसपी की मौजूदगी नजर तो आई थी, लेकिन वह 1 से तीन फीसदी के बीच वोट हासिल करने में ही कामयाब हो सकी थी. बीते चुनावों को ध्‍यान में रखते हुए बीजेपी इस बार बीएसपी को लेकर बहुत अधिक फिक्रमंद तो नहीं है, लेकिन कांग्रेस को यह डर जरूर सता रहा है कि कहीं बीएसपी उसके पारंपरिक वोट को उससे दूर न कर दे.

MP चुनाव : 5वीं बार चुनावी मैदान में उतरी यह BJP प्रत्‍याशी, 3 बार जीत चुकीं चुनाव

निमाड़ में हुआ नर्मदा नदी का विकास
मध्‍य प्रदेश के पश्चिम में स्थित निमाड़ इलाके के एक तरफ विंध्‍य पर्वत तो दूसरी तरफ सतपुड़ा की पर्वत श्रृंखलाएं हैं. निमाड़ को लेकर यह मान्‍यता भी है कि विश्व की प्राचीनतम नदियों में एक नर्मदा नदी का विकास निमाड़ में ही हुआ था. नर्मदा-घाटी सभ्यता का समय महेश्वर नावड़ाटौली में मिले पुरा साक्ष्यों के आधार पर लगभग ढाई लाख वर्ष माना गया है. विन्ध्य और सतपुड़ा अति प्राचीन पर्वत हैं. यहां यह भी मान्‍यता है कि प्रागैतिहासिक काल के आदिमानव की शरणस्थली सतपुड़ा और विन्ध्य की पर्वत श्रृंखलाएं ही थीं.

Maheshwar Nimar 1
निमाड़ के प्रमुख धार्मिक और पर्यटक स्‍थलों में एक है महेश्‍वर क्षेत्र. (फोटो: मध्‍य प्रदेश पर्यटन विभाग)

ओंकारेश्‍वर है निमाड़ का प्रमुख सांस्‍कृतिक केंद्र
निमाड़ की पौराणिक संस्कृति के केंद्र में ओंकारेश्वर, मांधाता और महिष्मती हैं. वर्तमान महेश्वर को प्राचीन काल में महिष्मती कहा जाता था. महेश्‍वर को हाल में ही मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पवित्र नगरी के रूप में घोषित किया है. निमाड़ का महेश्‍वर क्षेत्र सांस्‍कृतिक रूप में धनी तो है ही, साथ ही इस क्षेत्र को शैक्षणिक केंद्र बिंदु भी माना जाता है. यहां के प्रमुख शिक्षण संस्‍थानों में सरदार वल्लभ भाई पटेल महाविद्यालय, सरदार पटेल इंजीनियरिंग कॉलेज, चरक फार्मेसी कॉलेज शामिल हैं.