पहले CM शिवराज अब PM मोदी को बताया टंट्या भील का अवतार, आदिवासी नेता नाराज
X

पहले CM शिवराज अब PM मोदी को बताया टंट्या भील का अवतार, आदिवासी नेता नाराज

आदिवासियों पर सियासी बयानबाज़ी लगातार बढ़चढ़ कर सामने आ रही है. अब रतलाम की पूर्व बीजेपी विधायक संगीता चारेल का बयान सामने आया है. 

पहले CM शिवराज अब PM मोदी को बताया टंट्या भील का अवतार, आदिवासी नेता नाराज

रतलाम: आदिवासियों पर सियासी बयानबाज़ी लगातार बढ़चढ़ कर सामने आ रही है. अब रतलाम की पूर्व बीजेपी विधायक संगीता चारेल का बयान सामने आया है. जिसमें पूर्व बीजेपी विधायक संगीता चारेल ने टंट्या मामा भील की तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कर दी है. जिसे लेकर आदिवासी संगठन नेता नाराज हो रहे हैं.

MP के मंत्री बोले-टंट्या भील का सीएम शिवराज के रूप में हुआ पुनर्जन्म, गुण भी गिनाए

दरअसल सोमवार को टंट्या भील सूर्यक्रान्ति जनजातीय गौरव कलश यात्रा शुभारंभ अवसर पर मंच से बीजेपी पूर्व विधायक संगीता चारेल ने कहा कि आज से पहले टंट्या भील को किसी ने याद नहीं किया था कि टंट्या मामा भील कौन हैं, बिरसा मुंडा जी कौन हैं, लेकिन बीजेपी सरकार आयी तो उन्होंने आदिवासियों को जाग्रत करने का कदम उठाया.

पीएम के रूप में मौजूद टंट्या
पूर्व बीजेपी विद्यायक संगीता चारेल ने कहा कि आज टंट्या मामा भील हमारे बीच नहीं हैं, तो उन्हीं के रूप में हमारे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमारी मदद की हैं. आज प्रधानमंत्री आवास हमारे पास है.

पीएम तो आते-जाते रहेंगे
इधर आदिवासी छात्र संगठन के पूर्व जिला अध्यक्ष व जयस संगठन सदस्य ध्यानवीर डामोर ने कहा कि टंट्या भील ने 150 साल पहले जल जंगल ज़मीन को बचाने की शुरुआत की थी. आज बीजेपी सरकार में टंट्या भील की तुलना मोदी जी से की जा रही हैं. प्रधानमंत्री तो आते जाते रहेंगे, लेकिन टंट्या भील आदिवासी युवाओं के दिल मे बसे हैं. बीजेपी ने आज से पहले कभी नहीं कहा कि आदिवासी समाज के लिए योद्धा टंट्या भील था.

MP में जल्द लागू होगा पुलिस कमिश्नर सिस्टम, आज डीजीपी-सचिव के साथ बैठक करेंगे CM शिवराज

हाल में सीएम से की थी तुलना
गौरतलब है खरगोन जिले में आयोजित एक कार्यक्रम में शिवराज सरकार के कृषि मंत्री कमल पटेल ने सीएम शिवराज टंट्या भील का अवतार बताया. कमल पटेल ने कहा कि ''टंट्या मामा ने गरीबों में बांटने के लिए अमीरों को लूटा, हमारे मामा लूटते नहीं बल्कि गरीबों में बांटने के लिए अमीरों पर कर लगाते हैं. कमल पटेल ने कहा कि टंट्या मामा का जन्म 1882 में हुआ था और 47 साल की उम्र में वो देश के लिए शहीद हो गए थे. हमारी संस्कृति में यह माना जाता है कि पुनर्जन्म होता है, एक मामा 1842 में हुए और दूसरे मामा शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश में हुए हैं. टंट्या मामा दुबले- पतले थे और हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी दुबले-पतले हैं. इसलिए उन्हें भी मामा कहते हैं. 

WATCH LIVE TV

Trending news