'गद्दार' सियासत! सिंधिया समर्थक मंत्री ने दिग्गी राजा के पिता को बताया गद्दार, कांग्रेस ने 'महाराज' पर लगाया आरोप
X

'गद्दार' सियासत! सिंधिया समर्थक मंत्री ने दिग्गी राजा के पिता को बताया गद्दार, कांग्रेस ने 'महाराज' पर लगाया आरोप

प्रदेश की राजनीति में राजा -महाराजा के बीच छिड़े सियासी युद्ध में अब एक दूसरे पर गद्दारी के बयानों के गोले दागे जा रहे है. प

'गद्दार' सियासत! सिंधिया समर्थक मंत्री ने दिग्गी राजा के पिता को बताया गद्दार, कांग्रेस ने 'महाराज' पर लगाया आरोप

ग्वालियर: प्रदेश की राजनीति में राजा -महाराजा के बीच छिड़े सियासी युद्ध में अब एक दूसरे पर गद्दारी के बयानों के गोले दागे जा रहे है. पहले जहां पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को गद्दार बताते हुए हमला बोला था. वहीं अब गद्दारी के बयान और उस पर पलटवार की राजनीति के बीच दिग्विजय सिंह के बयान पर कट्टर सिंधिया समर्थक कैबिनेट मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने तीखा जुबानी हमला बोला है. उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भी गद्दार बताया है. 

दिग्गी के बेटे ने सिंधिया को हराने वाले सांसद KP यादव को दिया ये बड़ा ऑफर, तो लगने लगे ये कयास...

कैबिनेट मंत्री का कहना हैं कि गद्दारी की बात आज वह कर रहा है, जो खुद उनके पूर्वज गद्दार है. मंत्री तोमर द्वारा 16 सितंबर 1943 को दिग्विजय सिंह के पिता बलभद्र सिंह द्वारा लिखे पत्र का दिया हवाला है. जो तत्कालीन अंग्रेज हुकूमत को नमन करते हुए लिखा गया था.

दिग्गी राजा का खून खोल गया था
मंत्री तोमर के अनुसार भोपाल में पुरातत्व विभाग द्वारा 2002 लगाई प्रदर्शनी में इस पत्र को दर्शाया गया था. जिसके चलते दिग्गी राजा का खून खोला था और उन्होंने ऐतिहासिक उस पत्र को ही हटवा दिया था. वर्तमान राजनीति में इस तरह की भाषा का प्रयोग करना बेहद शर्मनाक है. दिग्विजय सिंह गद्दार है यह आज वर्तमान में भी दिखाई दे रहा है. क्यूंकि जिसने उन्हें मुख्यमंत्री बनाया, उस पार्टी को खत्म करने का काम दिग्विजय सिंह ने ही किया है. वह तो अपने नेतृत्व के साथ भी गद्दारी कर बैठे है.

आश्रम-3 विवाद के बाद अब ओटीटी प्लेटफॉर्म को भी सेंसर करेगी MP सरकार! शूटिंग से पहले भी लेनी होगी इजाजत

गद्दारी का इतिहास सिंधिया का
वहीं इस मामले पर कांग्रेस का कहना है कि मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर जिन तथाकथित दस्तावेजों के आधार पर आरोप लगा रहे हैं वह कितने सत्य हैं. यह आज भी सवालों के घेरे में है. लेकिन ग्वालियर के फूलबाग स्थित वीरांगना लक्ष्मीबाई का स्टेच्यू इस बात का गवाह है कि गद्दारी का इतिहास ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके परिवार का किस स्तर का रहा है. इतिहास के पन्नों से इस गद्दारी की तस्वीर को कोई भी नहीं भुला सकता है.

WATCH LIVE TV

Trending news