MP: जाति धर्म से ऊपर उठकर ग्वालियर के फिरोज ने कराई भागवत, 11 बार कर चुके हैं गोवर्धन परिक्रमा

फिरोज का पूरा परिवार हिंदू धर्म में आस्था रखता है. फिरोज खान 11 बार गोवर्धन परिक्रमा कर चुके हैं और तीन बार वैष्णो देवी की यात्रा पर भी जा चुके हैं. इतना ही नहीं वे पिछले 11 साल से शीतला माता मंदिर के दर्शन को जाते रहे हैं.

 MP: जाति धर्म से ऊपर उठकर ग्वालियर के फिरोज ने कराई भागवत, 11 बार कर चुके हैं गोवर्धन परिक्रमा
सांकेतिक तस्वीर

ग्वालियर: ग्वालियर में एक मुस्लिम परिवार ने साम्प्रदायिक सौहार्द्र की अनूठी मिसाल कायम की है. जहां एक मुस्लिम परिवार भागवत कथा करवा रहा है. भितरवार सासन गांव के रहने वाले फिरोज खान और उनकी पत्नी सफीना खान श्रीमद् भागवत कथा करवा रहे हैं. भागवत में हिंदु परिवारों के साथ ही गांव के 17 मुस्लिम परिवार भी शामिल हुए हैं.

भागवात के इस आयोजन को लोग साम्प्रदायिक सौहार्द्र की सबसे बड़ी मिसाल बता रहे हैं. ये भागवत कथा शुक्रवार 21 फरवरी को प्रारंभ हुई. गांव में भव्य कलश यात्रा निकाली गई जिसके बाद भागवत का शुभारंभ किया गया. इस भागवत के मुख्य यजमान फिरोज खान और उनकी बेगम सफीना खान हैं. पंडित राघवेन्द्र पाराशर जी कथा वाचन कर रहे हैं. इस गांव में करीब दो सौ परिवार रहते है, जिसमें 17 मुस्लिम परिवार भी हैं. भागवत के इस आयोजन में हिंदु-मुस्लिम सौहाद्र नजर आ रहा है. फिरोज और सफीना द्वारा कराई जा रही भागवत में गांव के अन्य मुस्लिम परिवार भी श्रद्धा के साथ कथा सुनने आ रहे हैं.

गौरतलब है कि फिरोज का पूरा परिवार हिंदू धर्म में आस्था रखता है. फिरोज खान 11 बार गोवर्धन परिक्रमा कर चुके हैं और तीन बार वैष्णोदेवी की यात्रा पर भी जा चुके हैं. इतना ही नहीं ये पिछले 11 साल से शीतला माता मंदिर के दर्शन को जाते रहे हैं. बता दें कि क्षेत्र में खातीवाले बाबा के स्थान पर फिरोज पिछले 14 साल से नवरात्रों में कन्या भोजन करा माता रानी का आशीर्वाद लेते आ रहे हैं. फिरोज पूरी आस्था के साथ हिंदू धर्म के देवी-देवताओं को पूजता है.

फिरोज खान पेशे से किसान हैं उसके पास खुद की थोड़ी सी ही जमीन है, लेकिन उसने गांव के अन्य किसानों की करीब 45 बीघा जमीन को लीज पर ले रखी है. बीते साल बारिश के कारण फसल बिगड़ने का डर था तब फिरोज ने माता रानी से अच्छी फसल होने की मन्नत मांगी थी. अच्छी फसल होने पर उसने भागवत कथा कराने का संकल्प लिया था. फिरोज का कहना है की फसल पिछले साल की तुलना में डेढ़ गुना ज्यादा हुई है और इस बार करीब 20 लाख रुपए की धान की उपज हुई है. माता ने उसकी मन्नत पूरी की है जिसके लिएफिरोज ने शुक्रवार से भागवत कथा का आयोजन शुरु कराया.