छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली धमाका, 6 जवान शहीद 1 घायल

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलनार मार्ग पर नक्सलियों द्वारा IED ब्लास्ट में 5 जवान शहीद हो गए. 

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली धमाका, 6 जवान शहीद 1 घायल

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलनार मार्ग पर नक्सलियों द्वारा IED ब्लास्ट में 6 जवान शहीद हो गए. दरअसल, नक्सलियों ने सीआरपीएफ की गाड़ी पर उस वक्त हमला किया, जब सभी जवान किरंदुल के TI की XUV से सर्चिंग ऑपरेशन से लौट रहे थे. ब्लास्ट जिस इलाके में हुआ है, वह किरंदुल थाना क्षेत्र के अंतर्गत आता है. धमाके में शहीद 6 जवानों में से सभी जवान जिला पुलिस बल के हैं. बता दें कि हमले के दौरान गाड़ी में 7 जवान सवार थे. हमले में 6 जवान शहीद हो गए जबकि 1 जवान घायल बुरी तरह से घायल है. धमाके के बाद नक्सलियों ने पुलिस बल पर फायरिंग भी की. जिसके बाद नक्सली सभी हथियार लूटकर वापस जंगल की ओर भाग गए. शहीद जवानों की पुष्टि करते हुए  ''नक्सल ऑपरेशन IG पी सुंदरराज'' ने बताया कि हमले की पुष्टी करते हुए बताया कि हमले में 6 जवान शहीद हुए हैं. जबकि एक जवान गंभीर रूप से घायल है. घायल जवान को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसका इलाज चल रहा है.

 

 

सुरक्षाबल की आवाजाही पर थी नक्सलियों की नजर
बता दें कि ये सभी जवान किरंदुल-चोलनार मार्ग पर हो रहे सड़क निर्माण के कार्य को सुरक्षा देने के लिए रवाना हुए थे. नक्सलियों ने इसी दौरान गाड़ी को निशाना बनाते हुए IED ब्लास्ट किया. जिसमें 6 जवान शहीद हो गए.  घायल जवान को किरंदुल के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उपचार के बाद जवान को रायपुर रेफर कर दिया जाएगा. बता दें कि किरंदुल जाने के लिए केवल एक ही रास्ता है और नक्सलियों ने इसी रास्ते पर नजर रखकर मौका देखते ही हमला कर दिया. घटना के बाद सुरक्षाबलों की खुद की सुरक्षा को लेकर बड़ी चूक सामने आई है. बता दें कि सभी जवानों को ऐसे इलाकों में निकलते वक्त अलग-अलग निकलने के निर्देश दिए जाते हैं. ऐसे में जवानों का एकसाथ निकलना जवानों की बड़ी गलती बन गई.

हमले की सीएम रमन ने की निंदा
किरंदुल में हुए नक्सली हमले की सीएम रमन सिंह ने कड़ी निंदा की है. हमले कि निंदा करते हुए सीएम रमन ने कहा है कि "नक्सलियों द्वारा पुलिस बल पर इस तरह का हमला कायराना हरकत है. नक्सलियों के ऐसे हमलों से पता चलता है कि वह विकास का विरोध करते हैं. वे नहीं चाहते कि प्रदेश विकसित हो. नक्सलियों द्वारा पुलिस बल पर इस हमले के लिए हम उन्हें मुहतोड़ जबाव देंगे." जानकारी के मुताबिक नक्सली कई दिनों से सुरक्षाबलों की आवाजाही पर नजर रखे हुए थे. पुलिस बल के आने-जाने की जानकारी होने का बाद ही नक्सलियों ने 50 किलो से ज्यादा विस्फोटक पुलिया के नीचे लगा दिया था. इतना विस्फोटक किसी बुलेटप्रूफ गाड़ी को उड़ाने के लिए भी काफी है.