नीमच: प्रशासन की पहल पर घर बैठी महिलाओं को मिला रोजगार, मास्क बना हर दिन कमा रही हैं 100 से 200 रुपये

ये महिलाएं लॉकडाउन में भी मास्क और सेनेटरी पैड बनाकर घर बैठे प्रतिदिन 100 से 200 रुपये कमा रही हैं.

नीमच: प्रशासन की पहल पर घर बैठी महिलाओं को मिला रोजगार, मास्क बना हर दिन कमा रही हैं 100 से 200 रुपये

प्रितेश सारड़ा/नीमच: लॉकडाउन की वजह से अधिकतर लोगों के रोजगार छिन गये हैं. जिसकी वजह से उन्हें खर्च चलाने में भी मुश्किलें हो रही है. लेकिन ऐसे लोगों को रोजगार दिलाने के लिए जिला प्रशासन ने एक ऐसी पहल की है. जिससे घर बैठ कर मजदूरी करने वाली महिलाओं को रोजगार मिल गया है. ये महिलाएं लॉकडाउन में भी मास्क और सेनेटरी पैड बनाकर घर बैठे प्रतिदिन 100 से 200 रुपये कमा रही हैं.

दरअसल जावद तहसील खोर के रहने वाले भूपेंद्र खोईवाल जो अपनी संस्था के माध्यम से महिलाओं से सेनेटरी पैड बनवा रहे थे, लेकिन लॉकडाउन की वजह से उनकी यह संस्था बंद हो गई. संस्था में काम करने वाली महिलाएं बेरोजगार न हो इसके लिए उन्होंने जिला पंचायत सीईओ भव्या मित्तल और महिला बाल विकास अधिकारी से बातचीत की. जिसके बाद जिलाधिकारी ने भूपेंद्र खोईवाल को गाइड किया. अब ये महिलाएं घर बैठे आंगनवाड़ी में काम करने वाली महिलाओं के लिए मास्क और सेनेटरी पैड बना रही हैं.

इंदौर के स्टोन आर्टिस्ट वाजिद खान ने पत्थरों से कलाकृति उकेर कोरोना वॉरियर्स को किया सलाम

मास्क और सेनेटरी पैड बनाने वाली महिलाओं (भारती और रेखा) ने बताया कि उन्हें यह काम अच्छा लग रहा है. इस काम से वो लोग प्रतिदिन 100 रुपये से 200 रुपये तक कमा लेती हैं. जिससे उनकी रोटी का खर्च भी चल जाता है. महिलाओं ने बताया कि वो हर दिन 200 से 300 मास्क बनाती हैं.

एनजीओं प्रबंधक भूपेंद्र सिंह ने बताया कि हम अपने संस्था के जरिए महिलाओं से सेनेडरी पैड बनवाते थे, लेकिन लॉकडाउन की वजह से यह काम बंद हो गया है. जिसके बाद हमने जिला पंचायत सीईओ भव्या मित्तल से संपर्क किया तो उन्होंने हमें मास्क और सेनेजरी पैड बनाने के लिए कहा. तभी से हम एनजीओ में काम करने वाली महिलाओं से सेनेटरी पैड और मास्क बनवा रहे हैं.  

छत्तीसगढ़ के CM ने PM को पत्र लिख मांगी मदद, कहा लॉकडाउन की वजह से प्रदेश को हुआ नुकसान

जिला पंचायत सीईओ भव्या मित्तल ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए ड्यूटी कर रही आंगनवाड़ी महिलाओं को सस्ते दाम में मास्क उपलब्ध हो सके इसके लिए हमने भूपेंद्र खोईवाल के एनजीओ को मास्क और सेनेटरी पैड बनाने के लिए ऑर्डर दिया है. साथ ही हमने पीपीई किट बनाने के लिए भी ऑर्डर दिया है, ताकि डॉक्टरों को सस्ते दाम में पीपीई किट मिल सके.