close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेश में अभी तक नहीं हुआ नेता प्रतिपक्ष का चयन, अटकलों का दौर जारी

भाजपा राज्य में 15 साल बाद सत्ता से बाहर हुई है और अब पार्टी में विधायकों का नेता बनने के लिए खींचतान जारी है.

मध्य प्रदेश में अभी तक नहीं हुआ नेता प्रतिपक्ष का चयन, अटकलों का दौर जारी
फाइल फोटो

भोपाल: मध्य प्रदेश में चुनाव के नतीजे आए 25 दिन से ज्यादा का वक्त गुजर गया है, लेकिन अभी तक नेता प्रतिपक्ष का चयन नहीं हो पाया है. अब नेता का चयन तब होगा, जब विधानसभा का सत्र शुरू हो जाएगा. भाजपा राज्य में 15 साल बाद सत्ता से बाहर हुई है और अब पार्टी में विधायकों का नेता बनने के लिए खींचतान जारी है. नेता की दौड़ में मुकाबला तीन ब्राह्मण नेताओं में है. पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव और राजेंद्र शुक्ल में से किसी को नेता चुना जाएगा, इतना तो तय है. 

MP: किसानों का 12 दिसंबर तक का कर्ज होगा माफ, आवदेन के लिए मिलेंगे तीन रंग के फॉर्म

भाजपा के प्रदेश कार्यालय में रविवार को पूरे दिन चली बैठक ने एक बात तो साबित कर ही दी है कि सब कुछ सामान्य नहीं है. नेता लगातार मंथन कर रहे हैं. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने संवाददाताओं से कहा, "भाजपा के नेता का चयन तो पांच मिनट में कर लिया जाएगा. आज तो सामान्य बैठक हुई." 

नोटिस के बाद भी BJP नेताओं का बंगलों पर कब्जा, 10 गुना ज्यादा किराया वसूलने की तैयारी

भाजपा का नेता बनने की दौड़ से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद को पहले ही अलग कर लिया है. वे कह चुके हैं कि 13 साल मुख्यमंत्री रहे, अब नेता प्रतिपक्ष नहीं बनेंगे. नेता दूसरा विधायक बनेगा. भाजपा के दावेदार नेताओं की अपनी-अपनी खूबियां हैं. पार्टी के नेता का चयन अब राष्ट्रीय नेताओं की मौजूदगी में सात जनवरी की शाम को होगा.

मध्य प्रदेश: ज्योतिरादित्य सिंधिया दौरा रद्द कर पहुंचे भोपाल, विधायकों की बैठक में शामिल

कांग्रेस हमेशा से गुटों में बंटी रही है, यही कारण है कि मुख्यमंत्री, मंत्री और फिर विभागों के बंटवारे को लेकर जमकर खींचतान चली. अब इसी राह पर भाजपा भी चल पड़ी है. यही कारण है कि नेता का चयन अब तक नहीं हो पाया है.