close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पंचायत ने रेप पीड़िता के परिजनों को बताया अछूत, बोली- शुद्धिकरण के लिए कराओ मांसाहारी भंडारा

युवती की शिकायत पर गुरुवार को महिला बाल विकास विभाग और पुलिस बल का एक संयुक्त जांच दल गांव भेजा गया. यह दल जांच कर रहा है, शिकायत सही पाई जाती है तो दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी."

पंचायत ने रेप पीड़िता के परिजनों को बताया अछूत, बोली- शुद्धिकरण के लिए कराओ मांसाहारी भंडारा
सियाराम नामक युवक ने युवती के साथ इसी साल सात जनवरी को दुष्कर्म किया था. (सांकेतिक तस्वीर)

राजगढ़ः मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले में एक युवती पहले तो दरिंदगी का शिकार हुई और अब उसके परिवार पर शुद्धिकरण के लिए मांसाहारी भंडारा कराने का पंचायत ने फरमान जारी किया है. पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए महिला बाल विकास विभाग के साथ एक संयुक्त जांच दल गठित किया है. राजगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रदीप शर्मा ने गुरुवार को बताया, "पीड़ित युवती ने पुलिस से बुधवार को शिकायत की और बताया कि समाज ने भंडारा कराने का फरमान सुनाया है. युवती की शिकायत पर गुरुवार को महिला बाल विकास विभाग और पुलिस बल का एक संयुक्त जांच दल गांव भेजा गया. यह दल जांच कर रहा है, शिकायत सही पाई जाती है तो दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी."

शर्मा के अनुसार, "सियाराम नामक युवक ने युवती के साथ इसी साल सात जनवरी को दुष्कर्म किया था. पीड़िता की शिकायत पर आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. उसे पिछले दिनों ही उच्च न्यायालय ने पैरोल दिया है." युवती की शिकायत के अनुसार, गांव के लोगों ने उसके परिवार से नाता रखना बंद कर दिया है, आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण पीड़ित परिवार भंडारा नहीं करा पा रहा है. भंडारा न कराने के कारण गांव में होने वाले किसी भी आयोजन में संबंधित परिवार को आमंत्रित नहीं किया जा रहा और पीड़ित परिवार के यहां आयोजित कार्यक्रम में भी गांव का कोई नहीं आता है.

उज्जैन में हुई रूह कंपा देने वाली घटना, 5 साल की बच्ची के साथ रेप के बाद हत्या, चाचा सहित 3 आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने बताया कि नरसिंहगढ़ थाना क्षेत्र के डूगंरपुरा गांव में पिछले दिनों समाज के लोगों ने एक पंचायत का आयोजन कर जनवरी माह में दुष्कर्म का शिकार बनी युवती के परिजनों को मांसाहारी भंडारा करने का फरमान सुनाया. इस फैसले पर समाज के पंच और अन्य प्रतिनिधियों के हस्ताक्षर हैं. समाज का कहना है कि युवती के साथ छोटी जाति के युवक ने दुष्कर्म किया था, लिहाजा युवती और उसके परिवार के शुद्घिकरण के लिए भंडारा कराना आवश्यक है.