विश्व स्तर पर पहचाने जाएंगे पन्ना के जंगल, यूनेस्को ने किया ये ऐलान

 यूनेस्को की ओर से पन्ना और छतरपुर के करीब तीन हजार वर्ग किलोमीटर के जंगल को 12 वें वर्ल्ड बायोस्फियर नेटवर्क में शामिल करने की घोषणा की गई है.

विश्व स्तर पर पहचाने जाएंगे पन्ना के जंगल, यूनेस्को ने किया ये ऐलान
फाइल फोटो

पीयूष कुमार शुक्ल/ पन्ना: मध्य प्रदेशवासियों के लिए खुशखबरी है. यूनेस्को के वर्ल्ड बायोस्फीयर रिजर्व में अब पन्ना ज़िले के जंगल भी शामिल हो गए हैं.  यूनेस्को की ओर से पन्ना और छतरपुर के करीब तीन हजार वर्ग किलोमीटर के जंगल को 12 वें वर्ल्ड बायोस्फियर नेटवर्क में शामिल करने की घोषणा की गई है.  इसके साथ ही संबंधित क्षेत्र में कल्चरल हेरिटेज और जैव विविधता को संरक्षित करने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे.

 पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक  उत्तम कुमार शर्मा ने खुशी जताते हुए कहा कि पन्ना के जंगलों ने एक बार फिर पन्ना को विश्व में विशेष पहचान दिलाई है. जिससे न केवल अब टाइगर रिजर्व का नाम विश्व मे पहुंच गया है बल्कि पन्ना के हर तरह के कल्चर को भी विश्व के जाना जाएगा. 

ये भी पढ़ें: गाड़ी का डीजल खत्म होने से रास्ते में फंसे मतदान कर्मी, अफसर ने मदद की जगह दी धमकी

क्षेत्र संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व की माने तो यूनेस्को द्वारा जारी 12वें बायोस्फीयर रिजर्व के लिए जारी डेटा के अनुसार बाईस्फीयर रिजर्व का कोर जोन 792.53 वर्ग किमी का होगा. इसका वफर क्षेत्र 989.20 वर्ग किमी और संक्रमण क्षेत्र 1 हजार 219.25 वर्ग किमी है.  इस प्रकार पन्ना बाईस्फीयर रिजर्व के लिए चिन्हित किये गए करीब तीन क्षेत्रो के लिए करीब तीन हजार वर्ग किमी क्षेत्र जंगल को अधिसूचित किया गया है. उन्होंने कहा कि पन्ना टाइगर रिजर्व के साथ-साथ पन्ना में जो ऐतिहासिक स्थल है इनकी पहचान देश के साथ साथ अंतराष्ट्रीय स्तर पर होगी जिसका लाभ यह पर टूरिजम को मिलेगा और विदेशी नागरिकों को आने में आसानी भी होगी. 

WATCH LIVE TV: