2020-21 के सत्र से मध्य प्रदेश के सभी स्कूलों में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग होगी अनिवार्य

2020-21 के सत्र से सभी सरकारी कॉलेज, अनुदान प्राप्त कॉलेज एवं प्राइवेट कॉलेज में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग अनिवार्य होगी. प्रदेश में सबसे पहले इसकी पहल इंदौर के होलकर कॉलेज से की गई.

2020-21 के सत्र से मध्य प्रदेश के सभी स्कूलों में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग होगी अनिवार्य
सांकेतिक तस्वीर

भोपाल: मध्य प्रदेश सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने एक एडवाइजरी जारी की है जिसके अनुसार 2020-21 के सत्र से सभी सरकारी कॉलेज, अनुदान प्राप्त कॉलेज एवं प्राइवेट कॉलेज में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग अनिवार्य होगी. प्रदेश में सबसे पहले इसकी पहल इंदौर के होलकर कॉलेज से की गई. उसके बाद ओल्ड जीडीसी में भी इस रूल को अपनाया गया. दोनों जगहों से सकारत्मक परिणाम मिलने के बाद इसको अब प्रदेश भर में लागू किया जाएगा.

प्रदेश भर के 1410 कॉलेजों में यह व्यवस्था लागू की जायेगी जिसमे 103 कॉलेज तो इंदौर के हैं. इसके लिए उच्च शिक्षा विभाग ने अतिरिक्त संचालक एवं सभी प्राचार्यों को पत्र लिख दिया है. हर महीने पिटीएम होना है मगर एक सेमेस्टर में दो बार और साल में चार बार इसको अनिर्वार्य रूप से करवाया जाएगा. इसकी रेपोर्ट, फोटोग्राफ और सुझाव भी प्रशासन को भेजे जायेंगे.

अभी तक प्रदेश के स्कूलों में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग होती थी लेकिन इंदौर के होलकर कॉलेज ने एक प्रयोग के रूप में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग करवाई जिसकी जानकारी उच्च शिक्षा विभाग को भेजी गई. इसके साथ ही बॉयोमेट्रिक अटेंडेंस के लिए बच्चों की 75% उपस्थिति सुनिश्चित करने की भी बात की गई. इसके बाद कई स्तरों पर इस मुद्दे पर चर्चा हुई. यहां तक की प्राचार्यों से भी इस विषय पर सुझाव मांगे गए.