close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: बीजेपी को झटका, MLA प्रह्लाद लोधी की पवई सीट से सदस्यता खत्म, अब होगा उपचुनाव

पन्ना की पवई विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक प्रह्लाद लोधी सहित 12 लोगों को भोपाल की एक विशेष अदालत ने दो साल की जेल की सजा सुनाई है. 

MP: बीजेपी को झटका, MLA प्रह्लाद लोधी की पवई सीट से सदस्यता खत्म, अब होगा उपचुनाव
प्रह्लाद लोधी पर आरोप था कि उन्होंने रेत खनन के खिलाफ कार्रवाई कर रहे तहसीलदार के साथ मारपीट और गाली-गलौज की थी.

भोपाल: मध्य प्रदेश के पन्ना जिले की पवई विधानसभा सीट रिक्त घोषित हो गई है. दरअसल, कोर्ट के फैसले के बाद मध्य प्रदेश विधानसभा सचिवालय ने पवई सीट को रिक्त घोषित कर दिया है. सचिवालय से मिली जानकारी के अनुसार, बीजेपी विधायक प्रह्लाद लोधी की विधानसभा से सदस्यता शून्य घोषित कर दी गई है. इसे बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. इसी के साथ राज्य में एक और उपचुनाव का रास्ता खुल गया है. बता दें कि हाल ही में झाबुआ सीट पर हुए विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस को जीत हासिल हुई थी. कांग्रेस पार्टी के कांतिलाल भूरिया इस सीट से विधायक चुने गए हैं. 

दरअसल, पन्ना की पवई विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक प्रह्लाद लोधी सहित 12 लोगों को भोपाल की एक विशेष अदालत ने दो साल की जेल की सजा सुनाई है. अदालत ने सभी को साढ़े तीन हजार रुपये जुर्माने की भी सजा सुनाई है. हालांकि, सजा मिलने के बाद बीजेपी विधायक को जमानत भी मिल गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, एमपी एमएलए की स्पेशल कोर्ट के जज सुरेश सिंह ने यह सजा सुनाई. बता दें कि प्रह्लाद लोधी पर आरोप था कि उन्होंने रेत खनन के खिलाफ कार्रवाई कर रहे तहसीलदार के साथ मारपीट और गाली-गलौज की थी. 

ये वीडियो भी देखें:

2014 में पन्ना जिले की रैपुरा तहसील में नोनीलाल लोधी अवैध रेत खनन में लिप्त पाए गए थे. अवैध खनन को रोकने के लिए वहां तहसीलदार पहुंचे थे. इस दौरान वहां बीजेपी विधायक प्रह्लाद लोधी अपने समर्थकों के साथ पहुंच गए. कार्रवाई का विरोध करते हुए प्रह्लाद लोधी और उनके समर्थकों ने तहसीलदार के साथ मारपीट की और अभद्र व्यवहार किया था. 

तहसीलदार की ओर से इस मामले में मुकदमा दर्ज करवाया गया था. पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए बीजेपी विधायक समेत 12 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था. तहसीलदार के साथ मारपीट और अभद्रता करने के इस मामले में बीजेपी विधायक और उनके समर्थकों को 2 वर्ष जेल की सजा सुनाई गई है.