जेब में आग लगा रहे पेट्रोल-डीजल के दाम, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचीं कीमतें

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को चेतावनी दी है कि अगर टैक्स हटाकर दाम कम नहीं हुए तो पार्टी पूरे प्रदेश में सड़कों पर उतरकर बड़ा आंदोलन करेगी. 

जेब में आग लगा रहे पेट्रोल-डीजल के दाम, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचीं कीमतें
सांकेतिक तस्वीर.

भोपालः राज्य में पेट्रोल-डीजल के दाम जनता की जेब में आग लगा रहे हैं. इतिहास के सर्वाधिक स्तर पर पेट्रोल की कीमत पहुंच गई है. भोपाल में पेट्रोल का दाम 92.85 रुपए प्रति लीटर है, वहीं डीजल का दाम 83.11 रुपए प्रति लीटर हो गया है. तो बालाघाट में पेट्रोल सबसे महंगा 93.80 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है. पेट्रोल पंप एशोसिएशन का कहना है कि कोरोना काल में राज्य सरकार ने  जो टैक्स लगाए हैं उनके चलते पेट्रोल ऐतिहासिक महंगा हो गया है. 

मध्य प्रदेश पेट्रोल पंप एशोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह की मांग है कि कोरोना का कहर थम गया है. ऐसे में सरकार को पेट्रोल और डीजल पर लगा टैक्स हटाकर जनता को राहत देनी चाहिए. जब हमारे रिपोर्टर ने पेट्रोल पंप पर पेट्रोल भरवाने पहुंचे लोगों से बात की तो कइयों का कहना था कि पेट्रोल बहुत महंगा हो गया है. इससे ज्यादा महंगा हुआ तो बाइक की जगह साइकिल चलानी पड़ेगी.

बुरे वक्त में बहुत काम आएगा आपका ATM कार्ड, करोड़ों लोग उठा रहे हैं फायदा, जानिए कैसे

पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर आंदोलन करेगी
पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को चेतावनी दी है कि अगर टैक्स हटाकर दाम कम नहीं हुए तो पार्टी पूरे प्रदेश में सड़कों पर उतरकर बड़ा आंदोलन करेगी. कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि शिवराज सरकार जनता को महंगाई की आग में ढकेल रही है. राहत देने की बजाय लगातार महंगाई का बोझ जनता पर डाल रही है.

पेट्रोल पंप एसोसिएशन अपना काम करे: बीजेपी
पेट्रोल के सर्वोच्च दाम और पेट्रोल पंप एसोसिएशन की सरकार को कोरोना के समय लगाए गए करों को कम कर जनता को राहत देने की मांग को लेकर बीजेपी नाराज लग रही है. बीजेपी नेता राहुल कोठारी का कहना है कि पेट्रोल पंप एसोसिएशन अपना काम करे, वह अपने कमीशन पर ध्यान दे. सरकार को नसीहत ना दे. सरकार अपना काम कर रही है.

शिवराज सरकार के 10 महीनों में हुए 3000 से ज्यादा तबादले, कांग्रेस ने लगाया ट्रांसफर स्कैम का आरोप

उत्पादक देशों की तरफ से कम उत्पादन, कच्चे तेल की कीमतें बढ़ीं
जनवरी में अब तक 6 बार पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा हुआ है. कोरोना महामारी के दौरान तेल उत्पादक देशों की तरफ से कम उत्पादन करने के कारण पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ी हैं. कम उत्पादन से तेल की मांग और आपूर्ति में असंतुलन हो गया है. कुछ महीने पहले कच्चे तेल की कीमतें 35 से 38 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल थीं, जो अब बढ़कर 54 से 55 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल हो गई हैं. इसके कारण दाम ,बढ़े हैं.

कच्चे तेल की कीमत गिरने पर सरकार ने बढ़ाई थी एक्साइज ड्यूटी
पिछले साल कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के बाद सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी थी. दुनियाभर में लॉकडाउन के कारण कच्चे तेल की कीमतें दो दशक के निचले स्तर पर पहुंच गई थीं. इस दौरान सरकार ने दो बार में एक लीटर पेट्रोल पर 13 रुपए और डीजल पर 16 रुपए एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी थी. यह अभी बढ़कर पेट्रोल पर 33 रुपए और डीजल पर 32 रुपए प्रति लीटर के करीब पहुंच गई है.

केंद्र की प्रसाद योजना में अमरकंटक शामिल, विश्वस्तरीय सुविधाएं के लिए तीर्थ स्थल को मिला 50 करोड़ का बजट  

रोज सुबह 6 बजे तय होती हैं कीमतें, SMS से पता कर सकते हैं रेट
भारत में पट्रोल और डीजल के दाम रोजाना तय होते हैं. इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम जैसी ऑयल मार्केटिंग कंपनियां कीमतों की समीक्षा के बाद रोजाना सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की संशोधित दरें जारी करती हैं. पेट्रोल-डीजल का का रेट आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं.  इंडियन ऑयल के कस्टमर RSP स्पेस पेट्रोल पंप का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर, भारत पेट्रोलियम उपभोक्ता RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर और एचपीसीएल उपभोक्ता 'HPPrice' लिखकर 9222201122 नंबर पर SMS भेजकर रेट पता कर सकते हैं.

WATCH LIVE TV