विजयवर्गीय की मांग- निरस्त हो इंदौर SDM और CSP का तबादला, कांग्रेस ने किया समर्थन

इससे पहले कैलाश विजयवर्गीय के बयान पर कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने सवाल खड़े किये थे. उन्होंने कहा था कि कैलाश विजयवर्गीय को पता नहीं, नौकरशाही भी सरकार का एक अंग है.

विजयवर्गीय की मांग- निरस्त हो इंदौर SDM और CSP का तबादला, कांग्रेस ने किया समर्थन
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय. (फाइल फोटो)

भोपाल: मध्य प्रदेश बीजेपी के नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के एक बयान को लेकर राजनीति गरमा गई है. इसको लेकर कई नेता उनकी अलोचना भी कर रहे हैं. वहीं कांग्रेस के मीडिया कोऑर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा उनके समर्थन में उतर आए हैं. सलूजा ने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव ने अधिकारियों के घुटने पर बैठने को लेकर कोई गलत बात नहीं की है. सलूजा ने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय ने शिवराज सरकार से तबादला निरस्त करने की मांग ही तो की है.

CG: नक्सलियों को ट्रैक्टर सप्लाई करने के आरोप में  BJP जिला उपाध्यक्ष गिरफ्तार, प्रदेश की सियासत गरमाई 

इससे पहले कैलाश विजयवर्गीय के बयान पर कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने सवाल खड़े किये थे. उन्होंने कहा था कि कैलाश विजयवर्गीय को पता नहीं, नौकरशाही भी सरकार का एक अंग है. कैलाश विजयवर्गीय ने यह कहकर नौकरशाही का अपमान किया है. अग्रवाल ने इसको लेकर सभी नौकरशाहों से सीएम के सामने जाकर विरोध जताने की भी अपील की थी. उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय पर आरोप लगाते हुए कहा था कि क्या आप नौकरशाहों को घुटने के बल रखोगे, पैरों तले रखोगे, सरकार चलाने में हमारा कोई मान-सम्मान नहीं है?

इसके अलावा कैलाश विजयवर्गीय के इस बयान का बीजेपी नेता हितेश वाजपेयी ने भी बचाव किया है. उन्होंने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय ने इंदौर में जो बयान दिया है, वह इस बात को ध्यान में रखकर दिए हैं कि ब्यूरोक्रेसी को हमेशा पॉलिटिक्स को एसिस्ट करना चाहिए. वाजपेयी ने कहा कि इसे किसी के मान-सम्मान, अपमान से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

वाजपेयी ने कहा कि वाकई में देश में इस बात की जरूरत है. नियम कायदे से देखें तो हमारे देश में दो पिलर हैं, एक पॉलिटी और दूसरी ज्यूडिशियली. कहीं-कहीं पर  जब एग्जिक्यूटिव इन दोनों पिलर से बाहर होती है तो तकलीफ होती है.

छत्तीसगढ़ कोरोना अपडेट: राज्य में कोरोना के 38 नए मरीजों की पुष्टि, 11 रायपुर के रहने वाले

आपको बता दें कि बीते दिनों बीजेपी नेता सुदर्शन गुप्ता के जन्मदिन पर इंदौर में भीड़ इक्ट्ठा हुई थी. जिसके बाद कांग्रेसी नेता सुदर्शन गुप्ता की गिरफ्तारी के लिए धरने पर बैठ गए थे. मामले को शांत कराने के लिए SDM और CSP घुटनों के बल बैठ गए थे, जिसके बाद सीएम ने इन दोनों का तबादला कर दिया.

Watch Live TV