close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राहुल के MP दौरे से पहले मंदसौर और नीमच में थमाए गए सैकड़ों किसानों को नोटिस

यह नोटिस मध्यप्रदेश के मंदसौर में हुए किसान आंदोलन में मृत किसान अभिषेक पाटीदार के भाई मधुसूदन पाटीदार को भी भेजा गया है.

राहुल के MP दौरे से पहले मंदसौर और नीमच में थमाए गए सैकड़ों किसानों को नोटिस
मध्यप्रदेश में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मंदसौर दौरे पर आने से पहले ही प्रशासन की एक बड़ी कारगुजारी सामने आई है

मंदसौर/नीमच: मध्यप्रदेश में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मंदसौर दौरे पर आने से पहले ही प्रशासन की एक बड़ी कारगुजारी सामने आई है. जानकारी के मुताबिक मंदसौर में कांग्रेस नेता सहित तमाम किसानों को प्रतिबंधात्मक नोटिस थमा दिए गए हैं. जिसे लेकर किसानों में आक्रोश देखा जा रहा है. दरअसल, पिछले साल 06 जून को मध्यप्रदेश के मंदसौर में किसान आंदोलन हुआ था. जिसमें हिंसा भड़कने से नीमच और मंदसौर जिले के 6 किसान मारे गए थे. इसी को लेकर 6 जून को आंदोलन की बरसी के मौके पर राहुल गांधी एक बड़ी रैली करने आ रहे हैं. इस नोटिस को लेकर कांग्रेस ने भी शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

नीमच में 250 किसानों को भेजा गया नोटिस
राहुल गांधी के इस दौरे को लेकर मध्यप्रदेश सरकार भी हरकत में आ गई है. पुलिस प्रशासन ने राहुल के दौरे से पहले ही नीमच जिले के 250 किसानों सहित कांग्रेस नेताओं को 107, 116 के प्रतिबंधात्मक के नोटिस भी जारी किए हैं. नोटिस मिलने के बाद कांग्रेसी नेता और किसान एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी को कोस रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेसी नेता उच्च अधिकारी से बात करने की बात भी कह रहे हैं.

शांति भंग के अंदेशे में दिए जाते हैं ऐसे नोटिस
इस मुद्दे पर जब जी मीडिया ने नीमच के एक एडवोकेट युगल बैरागी से बात की तो उन्होंने कहा कि 107, 116 का नोटिस ऐसी कंडीशन में दिया जाता है जब कार्यपालन मजिस्ट्रेट को लगता है कि किसी स्थान पर इन व्यक्तियों द्वार शांति भंग की जा सकती है. तो उस कंडीशन में ऐसे नोटिस जारी किए जाते हैं. इस पुरे मामले पर नीमच एडिशनल एसपी जीतेन्द्र सिंह पंवार ने जी मीडिया से बातचीत में कहा कि जिले में शांति बनाए रखने और कानून व्यवस्थाओं को देखते हुए तो एक सामान्य बोडो करवाने की प्रतिबंधात्मक नोटिस है, किसी प्रकार का कोई आरोप या कार्रवाई नहीं है.               

किसान आंदोलन में मारे गए किसान के भाई को भी मिला नोटिस
यही नहीं यह नोटिस मध्यप्रदेश के मंदसौर में हुए किसान आंदोलन में मृत किसान अभिषेक पाटीदार के भाई मधुसूदन पाटीदार को भी भेजा गया है. मधुसूदन के अलावा मंदसौर में लगभग 1200 लोगों को प्रतिबंधात्मक बांड भरने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं. जानकारी के मुताबिक पुलिस की अनुशंसा पर किसान आंदोलन में पिछले वर्ष भाग ले चुके सभी लोगों को ये नोटिस जारी किए गए हैं.

शांति-व्यवस्था के बिगड़ने पर जारी किए जाते हैं नोटिस
मंदसौर के एक वकील प्रकाश रातड़िया ने जी मीडिया को बताया कि आमतौर पर जांच करके शांति-व्यवस्था को बिगाड़ने की आशंका होने पर जांच के बाद नोटिस जारी किए जाते हैं और कई बार बांड के साथ जमानत भी ली जाती है. जमानत की व्यवस्था नहीं हो पाने की स्थीति में संबंधित व्यक्ति को जेल भेज दिया जाता है.

कांग्रेस बोली- सरकार किसानों को धमका रही है
इस मामले में कांग्रेस ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. कांग्रेस नेता माणक अग्रवाल ने जी मीडिया से बातचीत में कहा, "सरकार किसानों को धमका रही है, और उनके परिवार की भावनाओं से खेल रही है. अभिषेक के परिवार के साथ सरकार ने मजाक किया है." वहीं इसी मुद्दे पर बीजेपी नेता हितेश वाजपेयी ने कहा, "चुनावी फायदे के लिए मंदसौर का रुख किया है. कांग्रेस नकारात्मक पार्टी है. राहुल गांधी और सोनिया गांधी दोनों मां-बेटे ने नेशनल हेराल्ड में पांच हजार करोड़ का विश्वासघात किया है इसलिए मुचलके पर घूम रहे हैं. बीजेपी एक विकासपरक पार्टी है इसलिए हम विकास यात्रा निकाल रहे हैं. अच्छा होता राहुल गांधी मुलतई से अपनी यात्रा निकालते."