महंगाई की मार: सब्जियों की कीमत से बिगड़ा स्वाद, टमाटर ‘लाल’,तो आसमान छू रहे आलू-प्याज

छत्तीसगढ में बढ़ती महंगाई ने आम आदमी के खाने के स्वाद को फीका बना दिया है. दालों की कीमत तो आसमान छू ही रही है. वहीं  सूबे में सब्जियों के दाम बेतहाशा बढ़ते जा रहे हैं.

महंगाई की मार: सब्जियों की कीमत से बिगड़ा स्वाद, टमाटर ‘लाल’,तो आसमान छू रहे आलू-प्याज
फाइल फोटो

रायपुर: छत्तीसगढ में बढ़ती महंगाई ने आम आदमी के खाने के स्वाद को फीका बना दिया है. दालों की कीमत तो आसमान छू ही रही है. वहीं  सूबे में सब्जियों के दाम बेतहाशा बढ़ते जा रहे हैं. हरी सब्जियों से लेकर प्याज टमाटर तक सामान्य कीमतों की तुलना में 30-40 प्रतिशत बढे़ हुए दामों पर बिक रहे हैं.

महंगाई ने लोगों की जेब पर डाला डाका

टमाटर 60-70 रुपये किलो

प्याज़ 35-40 रुपये किलो

आलू  30-35 रुपये किलो 

बीन्स 70-80 रुपये किलो

शिमला मिर्च 45-50 रुपये किलो

कौन सी हैं सस्ती सब्जियां
सस्ती सब्जियों की बात करें तो इस समय सबसे सस्ती सब्जी भी लौकी है जो 30-40 रुपये किलो के बीच मिल पा रही है और तोरई के दाम भी इसी के आसपास हैं. इसके अलावा टिंडा जैसी हरी सब्जी भी 30-40 रुपये किलो के बीच मिल पा रही है. वहीं अरवी जैसी कम खाई जाने वाली सब्जी भी कुछ सस्ते दाम पर मिल रही है.

ये भी पढ़ें: आदिवासी की हत्या मामले को लेकर सियासत में उबाल, वन मंत्री ने की राज्यपाल से बात

सब्जियों के भाव वैसे तो पिछले एक महीने से आसमान छू रहे हैं, लेकिन इस हफ्ते फिर से कीमतों में उछाल आया है.दाम बढने से लोग जहां खरीददारी कम कर रहे हैं, वहीं सब्जी विक्रेता भी पहले की तुलना में 50-60 प्रतिशत सब्जियों ही खरीद रहे हैं.

ये है कीमतें बढ़ने का कारण
कीमतें बढ़ने का कारण सब्जियों की आवक में कमी और ट्रांसपोर्टेशन है, लॉकडाउन और कोरोना की वजह से कीमतें आसमान छू रही हैं.

WATCH LIVE TV: