रायपुरः नर्सों की हड़ताल खत्म, सरकार ने दी थी बर्खास्तगी की चेतावनी

वेतन वृद्धि की मांग को लेकर हड़ताल पर बैठी छत्तीसगढ़ की सरकारी अस्पताल की नर्सों ने शनिवार को सरकार के बर्खास्तगी के अल्टीमेटम के बाद हड़ताल खत्म कर दी.

रायपुरः नर्सों की हड़ताल खत्म, सरकार ने दी थी बर्खास्तगी की चेतावनी
रायपुर में नर्सों की हड़ताल खत्म

नई दिल्ली/रायपुरः वेतन वृद्धि की मांग को लेकर हड़ताल पर बैठी छत्तीसगढ़ की सरकारी अस्पताल की नर्सों ने शनिवार को सरकार के बर्खास्तगी के अल्टीमेटम के बाद हड़ताल खत्म कर दी. नर्सों ने हड़ताल तो खत्म कर दी, लेकिन नर्सों के तेवर अभी भी कम नही हुए हैं. नर्सों ने 45 दिन के भीतर मांग पूरी न होने पर वापस हड़ताल की चेतावनी दी है. नर्सों का आरोप है कि हिरासत में लिए जाने के बाद जेल प्रशासन ने उनके साथ तानाशाही दिखाते हुए उन्हें न तो कोई सुविधा उपलब्ध कराई गई और न ही उन्हें उनके बच्चों से मिलने दिया गया. बता दें कि प्रदेश के सरकारी अस्पतालों की ये नर्सें मई 18 से हड़ताल पर बैठी थी. जिसके बाद बर्खास्तगी की चेतावनी के बाद इन नर्सों ने हड़ताल खत्म करने का फैसला लिया. शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए नर्सों को तत्काल हड़ताल खत्म कर काम पर वापस लौटने की चेतावनी दी थी. जिसके बाद नर्सों ने हड़ताल खत्म कर 4 जून से काम पर लौटने का फैसला लिया. हालांकि नर्सों ने साफ तौर पर 45 दिनों के भीतर मांग पूरी न होने पर वापस हड़ताल की बात कही है.

बर्खास्तगी का अल्टीमेटम
बता दें कि नर्सों की मांगें पूरी करने के लिए एक समिति का भी गठन किया गया है. समिति को दो माह में अपनी रिपोर्ट पेश करना है. स्टाफ नर्स वेतन में वृद्धि और वर्ग दो दर्जे की मांग को लेकर हड़ताल पर थीं. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग में काफी उथल-पुथल मची थी. प्रशासन ने भी नर्सों से हड़ताल खत्म करने और काम पर वापस आने की काफी कवायद की लेकिन नर्सों ने अपनी मांग पूरी होने तक काम पर वापस जाने से मना कर दिया. जिसके बाद राज्य सरकार ने नर्सों की हड़ताल पर एस्मा लगा दिया. लेकिन नर्सों ने एस्मा लगाए जाने के बाद भी हड़ताल जारी रखी जिसके बाद सीएचएमओ की रिपोर्ट पर नर्सों को गिरफ्तार किया गया.

4 जून से काम पर वापसी
राज्य सरकार ने हड़ताली नर्सों से 4 जून तक काम पर वापस लौटने की बात कही है. सरकार ने कहा है कि जो भी नर्सें 4 जून तक काम पर वापस नहीं आतीं उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा. जिसके बाद नर्सों ने हड़ताल खत्म कर काम पर वापस आने का फैसला लिया. अधिकारियों के मुताबिक, 'नर्सों की मांग पर शासन स्तर पर विचाराधीन है. कई पदाधिकारियों ने हड़ताल कर रही नर्सों से समय-समय पर बातचीत की. अब जाकर नर्सों ने काम पर वापस लौटने का फैसला लिया है. सरकार ने नर्सों की मांगों को पूरा करने के लिए समिति का गठन किया है. यह समिति दो माह के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी.'