close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राकेश सिंह ने लगाया कांग्रेस पर आरोप, बोले- 'मोटी रकम लेकर किए जा रहे हैं तबादले'

मध्य प्रदेश के कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों के तबादले किए गए, जिसके बाद थोक के भाव हो रहे अधिकारियों के तबादले ने तूल पकड़ लिया है. इस मुद्दे पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा है.

राकेश सिंह ने लगाया कांग्रेस पर आरोप, बोले- 'मोटी रकम लेकर किए जा रहे हैं तबादले'
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष (फाइल फोटो)

भोपालः लोकसभा चुनाव के बाद एक बार फिर मध्यप्रदेश में तबादलों का दौर शुरू हो गया है. बीते शनिवार को भी मध्य प्रदेश के कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों के तबादले किए गए, जिसके बाद थोक के भाव हो रहे अधिकारियों के तबादले ने तूल पकड़ लिया है. इस मुद्दे पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह का कहना है कि कांग्रेस ने चुनाव खत्म होने के साथ ही प्रदेश में तबादला उद्योग शुरू कर दिया है. कांग्रेस अपने आर्थिक हितों के लिए तबादला उद्योग जमकर चला रही है.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में अधिकारी अगर कांग्रेस के हित में काम नहीं कर रहे हैं, तो उनका तबादला कर दिया जा रहा है. कांग्रेस जनता के हितों में नहीं बल्कि पार्टी के हित में काम करने वाले अधिकारियों को तवज्जो दे रही है. राकेश सिंह ने कहा अधिकारियों से मोटी रकम लेकर तबादला किए जा रहे हैं. लगातार हो रहे इन तबादलों की वजह से ही मध्य प्रदेश का कामकाज प्रभावित हो रहा है.

ग्वालियर जिलाधिकारी की पहल, बंदूक का लाइसेंस चाहिए तो लगाने होगें पौधे और...

देखें लाइव टीवी

मासूम बच्ची को चिमटे और डंडों से मारने वाली महिला के खिलाफ मामला दर्ज

बता दें इससे पहले मध्य प्रदेश में शुरू हुए प्रशासनिक अधिकारियों के तबादलों पर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए कहा था कि "26 मई को चुनाव आयोग ने जैसे ही आचार संहिता हटाई 27 मई को प्रदेश सरकार तबादला उद्योग शुरू कर देती है. मध्यप्रदेश में तबादला उद्योग फिर से चालू हो गया."

मध्य प्रदेश में प्रशासनिक महकमे में बड़ा फेरबदल, 15 डीएम का तबादला
 
ज्ञात हो कि इससे पहले, राज्य में लोकसभा चुनाव की आचार संहिता के खत्म होने के बाद 27 मई की रात को भी बड़े पैमाने पर प्रमुख सचिव, सचिव स्तर के अधिकारियों के साथ जिलाधिकारियों के तबादले किए गए थे. जिसके बाद एक बार फिर प्रदेश के करीब 13 जिलों के SP और 33 से अधिक आईपीएस अधिकारियों के तबादले कर दिये गए. जिसके बाद से अब लगातार विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर निशाना साध रही है.