एमपी: राकेश सिंह बने BJP के नए प्रदेश अध्यक्ष, नंदकुमार चौहान की हुई विदाई

बीजेपी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पार्टी की कोर ग्रुप की देर रात तक बैठक चली और उसमें मंत्री भूपेंद्र सिंह, नरोत्तम मिश्रा, राजेंद्र शुक्ला और महामंत्री वी डी शर्मा के नाम पर चर्चा हुई लेकिन किसी के नाम पर सहमति नहीं बनी.

एमपी: राकेश सिंह बने BJP के नए प्रदेश अध्यक्ष, नंदकुमार चौहान की हुई विदाई
मध्य प्रदेश में नंदकुमार चौहान की जगह पार्टी की कमान संभाल सकते हैं राकेश सिंह.

भोपाल:  मध्य प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए जबलपुर से सांसद राकेश सिंह के नाम की औपचारिक घोषणा कर दी है. मंगलवार को देर रात तक चली बैठक में राकेश सिंह का नाम अध्यक्ष पद के लिए तय कर दिया गया था. बुधवार को इसकी औपचारिक घोषणा कर दी गई है. गौरतलब है कि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान ने मंगलवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान को फोन कर प्रदेश अध्यक्ष पद से मुक्त करने के लिए कहा था. सीएम चौहान ने मीडिया से बात करते हुए इस्तीफे की पुष्टि भी की थी. बताया जा रहा है कि नंदकुमार चौहान ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी अपना इस्तीफा भेज दिया था.

कई नामों पर हुई चर्चा
जानकारी के अनुसार, पार्टी की कोर ग्रुप की देर रात तक बैठक चली और उसमें मंत्री भूपेंद्र सिंह, नरोत्तम मिश्रा, राजेंद्र शुक्ला और महामंत्री वी डी शर्मा के नाम पर चर्चा हुई, लेकिन किसी के नाम पर सहमति नहीं बनी. बाद में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सहमति से जबलपुर से सांसद राकेश सिंह को अध्यक्ष बनाने का निर्णय हुआ. मुख्यमंत्री चौहान ने मंगलवार को  नए अध्यक्ष को लेकर कहा था कि बुधवार तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी. पूर्व अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान ने देर रात अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद कोर ग्रुप और मुख्यमंत्री चौहान ने राकेश सिंह के नाम पर मुहर लगा दी.

आगामी चुनाव को ध्यान मे रखकर किया फैसला 
मध्य प्रदेश में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव चुनाव होने हैं. वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बदलने के इस फैसले को लेकर कई राजनीतिक अर्थ निकाले जा रहे हैं. राजनीतिक विश्लेषकों की मानें, तो इस निर्णय के पीछे बीते विधानसभा उपचुनावों में बीजेपी को मिली हार है. इसके बाद से ही पार्टी अध्यक्ष को बदलने की चर्चा चल रही थी. इसी बीच तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार ने खुद ही पद से हटने की इच्छा जता दी थी. 

संसदीय क्षेत्र का भी दायित्व निभाना जरुरी- नंदकुमार 
नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा था कि वह पिछले चार सालों ने प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर पार्टी की सेवा कर रहे हैं. यह एक बड़ा दायित्व है और इस दायित्व के कारण वह अपने क्षेत्र में नहीं जा पा रहे हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में पिछले चार सालों से कुछ भी काम नहीं किया है. यहां तक कि वह अपने क्षेत्र में गए तक नहीं हैं. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अब वे अपने इलाके के लिए काम करना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर दायित्व मुक्त होने की इच्छा जताई है.