close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रमज़ान के महीने में बि‍ना मुनाफा कमाये किया धंधा, गोशाला के लिए फ्री में भेजा चारा

मध्‍य प्रदेश के रतलाम के फुरकान अली, जो ऑटो चलाते हैं और खुद का गाय का चारा बेचने का व्यवसाय भी है.

रमज़ान के महीने में बि‍ना मुनाफा कमाये किया धंधा, गोशाला के लिए फ्री में भेजा चारा

रतलाम: रमज़ान माह, मुस्लिम समाज के लिए बहुत पाक होता है रमजान को नेकियों का मौसम भी कहा जाता है. इस महीने में मुस्लमान अल्लाह की इबादत पूरे दिल से करता है. यह महीना समाज के गरीब और जरूरतमंद बंदों के साथ हमदर्दी का है. इस महीने में रोजादार को इफ्तार कराने वाले के गुनाह माफ हो जाते हैं. यह महीना मुस्तहिक लोगों की मदद करने का महीना होता है.

रतलाम के फुरकान अली, जो ऑटो चलाते हैं और खुद का गाय का चारा बेचने का व्यवसाय भी है. फुरकान अली ने रमज़ान में दिल से न सिर्फ खुदा की, बल्कि पूरे माह गोसेवा कर इस पवित्र माह को सार्थक भी किया.

फुरकान अली रमज़ान के पूरे माह में 5 गाड़ी चारा निशुल्क दे चुके हैं जो रतलाम जिले के अलग अलग गोशाला में पहुंचाया गया. इसके अलावा फुरकान अली पूरे रमज़ान माह में अपना चारा व्यवसाय बगेर मुनाफे के करते हैं. फुरकान अली सालभर 1500 रुपये का 1 ठेला चारा बेचते हैं, लेकिन रमज़ान माह में वही 1500 रुपये की ठेलागाड़ी चारा मुनाफा काटकर 1000 रुपये में ही देते हैं. इसके अलावा फुरकान अली जिले की 40 किलोमीटर के अंदर आने वाली गोशाला तक चारा ले जाने के लिए कोई भाड़ा नही लेती.

इन सभी 40 किलोमीटर के दायरे में आने वाली गोशाला तक चारा फुरकान अली अपनी ऑटो से निःशुल्‍क ले जाते हैं. फुरकान अली की रमज़ान में गो सेवा पर हर कोई आश्चर्य करता है.