close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रतलाम: धनतेरस पर कुबेर का खजाना बना यह मंदिर, लोग मंदिर में रख जाते हैं अपना धन

लोगों की आस्‍था है कि यहां अपना धन रखने से महालक्ष्मी प्रसन्न होती है और धन में वृद्धि होती है. 

रतलाम: धनतेरस पर कुबेर का खजाना बना यह मंदिर, लोग मंदिर में रख जाते हैं अपना धन
प्राचीन महालक्ष्मी मंदिर कुबेर के ख़ज़ाने में तब्दील हो चुका है.

रतलाम: धनतेरस (Dhanteras) के दिन मध्य प्रदेश के रतलाम (Ratlam) का प्राचीन महालक्ष्मी मंदिर (Maha Lakshmi Mandir) कुबेर (Kubera) के ख़ज़ाने (Treasury) में तब्दील हो चुका है. यहां मान्यता है कि धनतेरस से दीपावली(Deepawali) तक अपना धन मंदिर में रखने से महालक्ष्मी प्रसन्‍न होती है, जिससे धन में वृद्धि होती है. इसी परंपरा के चलते देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से श्रद्धालु यहां आते है और अपना धन  व गहने मंदिर में रखते है.

मंदिर के पुजारी बताते है कि यह परंपरा सालों से चलती आ रही है. लोगों की आस्‍था है कि यहां अपना धन रखने से महालक्ष्मी प्रसन्न होती है और धन में वृद्धि होती है. इसी के चलते हजारों श्रद्धालु पांच दिनों तक यहां दर्शन के लिए आते है और अपना धन मंदिर में रखवाते है. श्रद्धालुओं का मंदिर में रखा हुआ धन कुबेर के खजाने की तरह दिखाई देता है. जो लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहता है.

लाइव टीवी देखें- 

धनतेरस के कई दिन पहले से यहां बड़े व्यापारी अपना सोना चांदी व नोटों की गड्डियां मन्दिर में लाकर रख देते हैं. इसके लिए रजिस्टर में एंट्री भी की जाती और पांच दिन बाद सभी अपना सामान वापस ले जाते है. धनतेरस से दीपावली तक महालक्ष्मी इस खज़ाने के साथ नजर आती है. इस नज़ारे को देखने के लिए देश के अलग अलग हिस्‍सों से श्रद्धालु दर्शन के लिए यहां चले आते है. श्रद्धालु आस्था के साथ यहां आकर दर्शन करते है और साथ ही मंदिर में इस कुबेर के खज़ाने के द्रश्य को देखकर सुख का अनुभव करते है. इस खज़ाने को देखकर हर कोई धन की देवी महालक्ष्मी से सुख, समृद्धि और वैभव के आर्शीवाद की प्रार्थना करता नजर आता है.

मां महालक्ष्मी के दर्शन के लिए श्रद्धालु सुबह चार बजे से ही लंबी कतार में को खड़े हो जाते है. भक्तो का कहना ही इस तरह का नजारा कही देखने को नहीं मिलता, पूरा मंदिर कुबेर के ख़ज़ाने की तरह दिखाई देता है.

मंदिर के प्रति लोगों की आस्‍था और दर्शन के लिए उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए प्रशासन द्वारा कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए है. पूरे मंदिर में सीसीटीवी से निगरानी की जा जाती है. इसी के साथ-साथ मंदिर में पुलिस व्‍यवस्‍था भी की जाती है.