close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BHOPAL: रेरा ने काम की लेटलतीफी पर लिया एक्शन, गैमन इंडिया के सीबीडी प्रोजेक्ट का पंजीयन निरस्त

रेरा का कहना है कि जिस जमीन पर सीबीडी प्रोजेक्ट है, वह सरकारी है और इसे सरकार ने ही दीपमाला इंफ्रास्ट्रक्चर को लीज पर दिया है, लेकिन टीएंडसीपी की ओर से निर्माण की अनुमति मप्र हाउसिंग बोर्ड को दी गई थी. 

BHOPAL: रेरा ने काम की लेटलतीफी पर लिया एक्शन, गैमन इंडिया के सीबीडी प्रोजेक्ट का पंजीयन निरस्त
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: रेरा ने काम में लेटलतीफी के चलते गैमन इंडिया के सृष्टि सीबीडी प्रोजेक्ट का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया है. यह न्यू मार्केट स्थित कमर्शियल कम रेसीडेंशियल प्रोजेक्ट है. साथ ही रेरा ने राज्य सरकार को सुझाव दिया है कि जिस तरह सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आम्रपाली ग्रुप के प्रोजेक्ट को दूसरी सरकारी एजेंसी बना रही हैं, उसी तरह गैमन के इस प्रोजेक्ट को मप्र हाउसिंग बोर्ड से पूरा करवाया जा सकता है. 

2008 में भोपाल के इस सबसे महंगे 330 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट का काम शुरू हुआ था, जो 2013 में खत्म होना था. इसमें 1263 फ्लैट व दुकानें बननी हैं. इनमें 288 प्रीमियम अपार्टमेंट, 22 पेंटहाउस, 349 दुकानें, 18 बड़ी दुकानें आदि बननी हैं. इसकी 50 फीसदी बुकिंग हो चुकी है और प्रोजेक्ट पर काम नहीं होने के चलते 10 खरीदारों ने कंपनी पर प्रकरण दर्ज कराया हुआ है. रेरा ने पाया कि कंपनी की प्रोजेक्ट साइट खाली पड़ी है.  उसके भोपाल और मुंबई में दर्ज पतों पर रेरा ने मई से अब तक कई नोटिस भेजे, लेकिन कोई जवाब नहीं आया. इसके बाद ही प्रोजेक्ट का निलंबित लाइसेंस रद्द किया गया. 

MP: नगर पालिका की लापरवाही से लोग परेशानी, गंदगी बन रही गंभीर बीमारियों की वजह

 

रेरा का कहना है कि जिस जमीन पर सीबीडी प्रोजेक्ट है, वह सरकारी है और इसे सरकार ने ही दीपमाला इंफ्रास्ट्रक्चर को लीज पर दिया है, लेकिन टीएंडसीपी की ओर से निर्माण की अनुमति मप्र हाउसिंग बोर्ड को दी गई थी. एक तरह से वह प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एजेंसी भी है इसलिए राज्य सरकार गैमन के प्रोजेक्ट में मकान और दुकान बुक करने वालों के हितों की रक्षा के लिए इसका शेष काम पूरा करने का जिम्मा हाउसिंग बोर्ड को दे.