भोपाल से BJP सांसद साध्वी प्रज्ञा ने किया ऐलान- 'मैं अपनी पूरी सैलरी जरूरतमंदों पर करूंगी खर्च'

साध्वी प्रज्ञा भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल निरीक्षण के लिए पहुंची थीं, जहां उन्होंने अस्पताल में भर्ती गंभीर बीमारी से जूझ रही एक बच्ची का भी इलाज कराया.

भोपाल से BJP सांसद साध्वी प्रज्ञा ने किया ऐलान- 'मैं अपनी पूरी सैलरी जरूरतमंदों पर करूंगी खर्च'
बतौर सांसद कमला नेहरू अस्पताल पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः राजनीति में कदम रखने के बाद से ही अपने विवादित बयानों के चलते चर्चाओं में रहने वाली साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने बतौर सांसद ऐलान किया है कि वह अपनी पूरी सैलरी जरूरतमंदों और गरीब लोगों पर खर्च करेंगी. दरअसल, साध्वी प्रज्ञा भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल निरीक्षण के लिए पहुंची थीं, जहां उन्होंने अस्पताल में भर्ती गंभीर बीमारी से जूझ रही एक बच्ची का भी इलाज कराया. इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि वह अब से बतौर सांसद मिलने वाली अपनी पूरी सैलरी गरीब और जरूरतमंद लोगों पर खर्च करेंगी.

उन्होंने कहा कि 'मैंने तय किया है कि अब से बतौर सांसद मिलने वाली सैलरी को मैं खुद पर नहीं बल्कि जरूरतमंदों पर खर्च करूंगी. इसीलिए मैंने अपनी सैलरी से अस्पताल में भर्ती जरूरतमंद बच्ची के इलाज के लिए इंजेस्शन खरीदने को कहा है.' वहीं बच्ची के अभिभावकों का कहना है कि 'उनकी बेटी काफी समय से जापानी बुखार से जूझ रही है, लेकिन उनके पास इतने पैसे नहीं हैं कि वह बच्ची की इस गंभीर बीमारी का इलाज करा सकें. क्योंकि बच्ची को जो इंजेक्शन लगने हैं वह काफी महंगे हैं. इसलिए वह लाचार हैं.' बता दें बच्ची को जो इंजेक्शन लगने हैं उनकी कीमत 7000 रुपये है और बच्ची को इसी कीमत के 8 इंजेक्शन लगने हैं.

IAS अफसरों के तबादले में कोई नहीं है पीछे, शिवराज सरकार ने 365 दिनों में किए थे 395 ट्रांसफर

देखें लाइव टीवी

भोपालः मासूम से रेप और हत्या के मामले में बोलीं साध्वी प्रज्ञा- दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

इस दौरान साध्वी प्रज्ञा के साथ बाल आयोग के पूर्व अध्यक्ष राघवेंद्र शर्मा भी मौजूद रहे. जिन्होंने बताया कि बच्ची के स्वास्थ्य से संबंधित यह प्रकरण उनकी नजर में जब आया तो उन्होंने सांसद साध्वी प्रज्ञा को इसके बारे में जानकारी दी. जिसके बाद साध्वी प्रज्ञा अस्पताल पहुंचीं और यहां उन्होंने बच्ची के माता-पिता से मुलाकात करने के बाद बच्ची का इलाज कराने की बात कही. वहीं उन्होंने डॉक्टर्स से भी बात की और बच्ची के इलाज का खर्च खुद उठाने की बात कही. इसके साथ ही सांसद ने सभी वार्डों का निरीक्षण भी किया और अस्पताल में फैली गंदगी पर नाराजगी भी जताई.