MP: सपाक्स 2 अक्टूबर को करेगा अपनी पार्टी की घोषणा, सभी सीटों पर लड़ेगा चुनाव

रैली में सपाक्स के अलावा श्री राजपूत करणी सेना, श्री परशुराम सेना, अखिल भारतीय ब्राह्मण संगठन, क्षत्रिय महासभा एवं पिछड़ा वर्ग समाज सहित करीब 70 संगठनों ने भाग लिया. 

MP: सपाक्स 2 अक्टूबर को करेगा अपनी पार्टी की घोषणा, सभी सीटों पर लड़ेगा चुनाव
वक्ताओं ने विभिन्न योजनाओं को बिना जातिगत भेदभाव के आर्थिक आधार पर लागू करने की भी मांग की.

भोपाल: सपाक्स ने रविवार को एक रैली में कहा कि वह दो अक्टूबर को अपने राजनीतिक दल ‘सपाक्स पार्टी’ की घोषणा करेगी और मध्यप्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव में सभी 230 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़ा करेगी. मध्यप्रदेश सपाक्स समाज के संरक्षक हीरालाल त्रिवेदी ने ऐलान किया, ‘‘सपाक्स दो अक्टूबर को अपने राजनीतिक दल ‘सपाक्स पार्टी’ यानी सामान्य, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक कल्याण समाज पार्टी की घोषणा करेगी और मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में सभी 230 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.’’

यह रैली कलियासोत एडवेंचर ग्राउंड पर आयोजित की गई. इस रैली में सपाक्स के अलावा श्री राजपूत करणी सेना, श्री परशुराम सेना, अखिल भारतीय ब्राह्मण संगठन, क्षत्रिय महासभा एवं पिछड़ा वर्ग समाज सहित करीब 70 संगठनों ने भाग लिया. रैली को त्रिवेदी के अलावा करणी सेना के संस्थापक लोकेन्द्र सिंह कालवी एवं करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी सहित कई वक्ताओं ने संबोधित किया.

उन्होंने केन्द्र सरकार द्वारा उच्चतम न्यायालय का दिशा निर्देश नहीं मानते हुए अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) संशोधन कानून लागू करने, मध्यप्रदेश सरकार द्वारा उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद प्रमोशन में आरक्षण समाप्त ना कर पात्र शासकीय सेवकों को प्रमोशन से वंचित रखे जाने एवं बीजेपी उपाध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय द्वारा कथित तौर पर सवर्णों को ‘शहरी नक्सलवादी’ कहे जाने का पुरजोर विरोध किया.

वक्ताओं ने विभिन्न योजनाओं को बिना जातिगत भेदभाव के आर्थिक आधार पर लागू करने की भी मांग की. नेताओं ने कहा कि जब तक हमारे नेता विधानसभा एवं संसद नहीं पहुंचेगे, तब तक हम अपनी लड़ाई नहीं जीत सकते. त्रिवेदी ने कहा कि केन्द्र सरकार और मध्यप्रदेश सरकार के सपाक्स वर्ग के प्रति लगातार जारी उपेक्षित रवैये को अब बहुसंख्यक समाज और सहन नहीं करेगा. उन्होंने दावा किया कि रैली में सभी समाज के लोग आये थे. एससी/एसटी के कुछ लोग इस रैली में शामिल हुए.