पुणे एक्सप्रेस में आतंकवादी होने की खबर से फैली सनसनी, जबलपुर स्टेशन पर हंगामा

शनिवार दोपहर दानापुर से पुणे जा रही ट्रेन क्रमांक 12150- दानापुर-पुणे एक्सप्रेस में आतंकवादी होने से जबलपुर स्टेशन पर अफरा-तफरी मच गई.

पुणे एक्सप्रेस में आतंकवादी होने की खबर से फैली सनसनी, जबलपुर स्टेशन पर हंगामा
पुणे एक्सप्रेस में आतंकवादी होने की खबर से जबलपुर स्टेशन में अफरा-तफरी (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्लीः शनिवार दोपहर दानापुर से पुणे जा रही ट्रेन क्रमांक 12150- दानापुर-पुणे एक्सप्रेस में आतंकवादी होने से जबलपुर स्टेशन पर अफरा-तफरी मच गई. ट्रेन में आतंकवादी के होने की सूचना मिलते ही हथियारबंद आरपीएफ और जीआरपी के जवान तुरंत जबलपुर स्टेशन पहुंच गए और ट्रेन के स्टेशन पर पहुंचने का इंतजार करने लगे. ट्रेन के स्टेशन पर पहुंचते ही तुरंत खोजबीन शुरू कर दी गई, लेकिन आधे घंटे की खोजबीन के बाद भी पुलिस के हांथ कुछ नहीं लगा. दरअसल, ट्रेन में आतंकवादी के होने की सूचना फर्जी थी. इधर स्टेशन पर जैसे ही यात्रियों ने पुलिस की भीड़ देखी वे भी दहशत में आ गए. यात्रियों को पुलिस के स्टेशन पर होने का कारण ही समझ नहीं आ रहा था. जैसे ही स्टेशन में मौजूद यात्रियों ने हथियारबंद पुलिस फोर्स देखी सभी के चेहरे पर भय नजर आने लगा. लेकिन, वास्तविकता के सामने आने पर न सिर्फ पुलिस बल बल्कि सभी यात्री और स्टेशन पर मौजूद लोग भी हैरान हो गए.

सेना के जवान ने दी फर्जी खबर
बता दें कि ट्रेन में आतंकवादी के होने की सूचना पुलिस को सेना के ही जवान ने दी थी. जो कि झूठी निकली. दरअसल, सेना के एक जवान की सह यात्रियों से सीट में बैठने को लेकर विवाद हो गया. जिसके चलते जवान ने ट्रेन में आतंकवादी होने की सूचना जबलपुर जीआरपी कंट्रोल रूम को दी. जानकारी के मिलते ही पुलिस बल अफरा-तफरी में जबलपुर स्टेशन पहुंची. लंबी छान-बीन के बाद पुलिस को जानकारी के फर्जी होने का पता चला. जिसके बाद पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जवान का आई-कार्ड जब्त कर लिया. 

कोच में बैठे लोगों से पूछताछ करने पर सामने आया मामला
दरअसल, जैसे ही ट्रेन क्रमांक 12150- दानापुर-पुणे एक्सप्रेस जबलपुर स्टेशन पहुंची पुलिस ने तुरंत छानबीन शुरू कर दी. छानबीन में जब पुलिस को कुछ नहीं मिला तब पुलिस ने सभी यात्रियों की टिकट चैक की. सभी यात्रियों के टिकट वैद्य थे. जिसके बाद पुलिस ने कोच में बैठे लोगों से पूछताछ की. पूछताछ में पता चला कि जिस सेना के जवान ने पुलिस को कोच में आतंकवादी होने की सूचना दी थी वह गलत थी. दरअसल, रास्ते में करीब 12:50 पर जवान की सह यात्रियों से सीट को लेकर कहासुनी हो गई थी. जिसके बाद जवान ने आतंकवादी होने की झूठी खबर फैला दी. पूरा मामला सामने आते ही पुलिस ने जवान का आई कार्ड जब्त कर लिया और मामले की सूचना यूनिट को देने का निर्णय लिया.