शिवराज का तंज, ''जनता को सुविधाएं दीं तो कांग्रेसी कह रहे भूखा-नंगा और कमीना''

अनूपपुर पहुंचे सीएम शिवराज ने पाली में आयोजित चुनावी सभा में कमलनाथ समेत कांग्रेस के अन्य नेताओं को आड़े हाथों लिया. कमलनाथ और कांग्रेस नेताओं के अपशब्दों के इस्तेमाल को लेकर सीएम ने कमलनाथ पर जमकर तंज कसा. शिवराज ने कहा कि वो मेरे लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं.

शिवराज का तंज, ''जनता को सुविधाएं दीं तो कांग्रेसी कह रहे भूखा-नंगा और कमीना''
Play

अनूपपुर: अनूपपुर पहुंचे सीएम शिवराज ने पाली में आयोजित चुनावी सभा में कमलनाथ समेत कांग्रेस के अन्य नेताओं को आड़े हाथों लिया. कमलनाथ और कांग्रेस नेताओं के अपशब्दों के इस्तेमाल को लेकर सीएम ने कमलनाथ पर जमकर तंज कसा. शिवराज ने कहा कि वो मेरे लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं. शिवराज ने कहा कि कमलनाथ को उद्योगपति होने का घमंड है, लेकिन मध्यप्रदेश की जनता घमंड चूर करना जानती है. शिवराज ने कहा कि ये चुनाव बिसाहूलाल का नहीं, मेरा चुनाव है. बिसाहूलाल ने जो काम कहा, सब कर दिया. उन्होंने कहा कि हम मैंने प्रदेश की जनता को सुविधाएं दी, जनता के लिए कल्याणकारी योजनाएं शुरू कीं तो हम कमीने हैं. 

जनता तोड़ देगी अहंकार
शिवराज ने कहा कि कमलनाथ उद्योगपति हैं, उन्हें इसका अहंकार है. मध्यप्रदेश की जनता उनका यह अहंकार तोड़ने वाली है. कल एक नेता दिल्ली से आये थे, वो मुझे कमीना कहते हैं. मुझे कमीना, नंगे, भूखे घर का कहा जाता है. मुझे नालायक कहा जाता है. यह बात सीएम शिवराज ने अनूपपुर उपचुनाव मे पाली में आयोजित आम सभा को संबोधित करते हुए कही. 

जीतू पटवारी की ASP को धमकी- ''गलत बात मत करो रघुवंशी, मेरे रिकॉर्ड में आ रहे हो आप''

सेठ कमलनाथ ने तो ढेला तक नहीं दिया
सीएम ने कहा छात्रों की फीस इस नंगे-भूखे ने भरी है. तो हां हम कमीने हैं. आपने तमाम कल्याणकारी योजनाएं बन्द कर दीं. हमने फिर शुरू की तो हां हम कमीने हैं. सेठ कमलनाथ तुमने कन्या विवाह योजना में झूठ बोला, संबल योजना बन्द कर दी. हम बेटियों का कन्यादान करते थे. आप सेठ हैं, बेटियों की शादी हो गई, भांजे-भांजी आ गए, पर तुम्हारा 51 हजार से ढेला नहीं आया. सेठ कमलनाथ! आपने विधवा बहन से कफ़न के 5 हजार भी छीन लिया. हम कमीने हैं ! उसे फिर चालू कर दिया. 

मैं किसान के घर में पैदा हुआ तो मेरा क्या अपराध?
मैं किसान के घर पैदा हुआ, क्या यह मेरा अपराध है? मीडिया के माध्यम से पूछ रहा हूं, सेठ कमलनाथ किसानों के सम्मान निधि की सूची भी नहीं भेजे. हम कमीने हैं! 10 हजार रुपए हर साल किसान को देंगे. सीएम ने चुनौती दी कि सेठजी जी जवाब दो कि गरीबों के मकान आपने क्यों नहीं बनने दिए. हम कमीने हैं! आने वाले तीन सालों के अंदर सभी गरीबों को पक्का मकान और नलजल की सुविधा दे देंगे. सीएम ने तंज कसते हुए कहा कि वो राहुल की बात भी नहीं मानते हैं. इमरती देवी का अपमान करते हैं, राहुल गांधी ने माफी मांगी और कमलनाथ कहते हैं कि राहुल गांधी ने ऐसे ही कह दिया था. मतलब राहुल गांधी भी नासमझ हैं. 

सीएम ने कहा गरीबों की सेवा में जो आनंद मिलता है, कमलनाथ उसकी तुम कल्पना भी नहीं कर सकते. हम आनंद के लिए जनता की सेवा करते हैं. जनता के सामने घुटना टेक कर प्रणाम करने का आनंद ही कुछ और है, कमलनाथ जी इसे तुम क्या जानो.

WATCH LIVE TV