कर्नाटक में येदियुरप्पा सरकार गिरने के सवाल पर, शिवराज सिंह ने साधी चुप्‍‍‍‍पी

कर्नाटक विधानसभा में बहुमत प्रदर्शन के पहले बीएस येदियुरप्पा के दिए इस्तीफे से सियासी प्रतिक्रियाएं फिर तेज हो गई हैं.

कर्नाटक में येदियुरप्पा सरकार गिरने के सवाल पर, शिवराज सिंह ने साधी चुप्‍‍‍‍पी
शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो-PTI)

नई दिल्लीः कर्नाटक विधानसभा में बहुमत प्रदर्शन के पहले बीएस येदियुरप्पा के दिए इस्तीफे से सियासी प्रतिक्रियाएं फिर तेज हो गई हैं. जहां एक ओर बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे से खुश कांग्रेस और जेडीएस कार्यकर्ता खुशी मना रहे हैं और बीजेपी पर तंज कस रहे हैं, तो मध्यप्रदेश के मुखिया सीएम शिवराज सिंह चौहान से जब येदियुरप्पा के इस्तीफे के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली और बिना कुछ कहे आगे बढ़ गए. बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने येदियुरप्पा को आज शाम चार बजे तक विधानसभा में बहुमत प्रदर्शन को साबित करने का समय दिया था. लेकिन, येदियुरप्पा ने बेहद भावुक भाषण के साथ शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफा दे दिया.

क्या कहा बीएस येदियुरप्पा ने
अपने भाषण में येदियुरप्पा ने कहा कि " प्रदेश में पहले कांग्रेस और जेडीएस एक दूसरे के आमने-सामने खड़े थे. लेकिन, अब एक साथ हैं. हमने मेहनत की और जनता ने हमें चुना, लेकिन अब परिस्थितयां बदल चुकी हैं. मैंने सोचा था कि मैं किसानों की सेवा करूंगा, जनता की सेवा करूंगा, उनके आंसू पोछूंगा लेकिन, परिस्थितियों के चलते ऐसा नहीं हो पाया. हालांकि मैं इसके बाद भी आपकी सेवा करता रहूंगा. मैं मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं. मैं राजभवन जाकर अपना इस्तीफा सौंप दूंगा. मैं शक्ति प्रदर्शन का सामना नहीं करूंगा इसीलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं." 

अब जेडीएस और कांग्रेस मिलकर बनाएंगे सरकार
बता दें कि आज शाम चार बजे बीएस येदियुरप्पा को बहुमत साबित करना था. लेकिन, बहुमत साबित न करने का फैसला लेते हुए कर्नाटक मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया. उन्होंने कहा कि शक्ति प्रदर्शन की प्रक्रिया को आगे न बढ़ाते हुए मैं मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे रहा हूं. हालांकि येदियुरप्पा के इस्तीफे का पहले से ही अनुमान लगाया जा रहा था. पिछले कुछ दिनों से चल रही कवादय और उथल-पुथल के चलते कांग्रेस के कई नेता पहले ही येदियुरप्पा के इस्तीफे की बात कह चुके थे. बता दें कि कर्नाटक में येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद अब जेडीएस और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाएंगे.