मारे गए सिमी आतंकियों के पास हथियार थे : भूपेन्द्र सिंह

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने आज बताया कि यहां जेल से फरार होने के बाद 31 अक्तूबर को पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए सिमी आतंकियों के पास शस्त्र थे, जबकि इसके विपरीत राज्य के एटीस प्रमुख ने विरोधाभासी बयान दिया है कि उनके पास कोई हथियार नहीं थे।

भोपाल : मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने आज बताया कि यहां जेल से फरार होने के बाद 31 अक्तूबर को पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए सिमी आतंकियों के पास शस्त्र थे, जबकि इसके विपरीत राज्य के एटीस प्रमुख ने विरोधाभासी बयान दिया है कि उनके पास कोई हथियार नहीं थे।

सिंह ने बताया, ‘हमारे पास आई पुलिस की आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार मुठभेड़ के दौरान सिमी आतंकियों के पास शस्त्र थे और उन्होंने ही पहले गोलियां चलाई।’ जब इस बात का जिक्र किया गया कि आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) प्रमुख संजीव शमी ने एक टीवी चैनल को बताया कि सिमी सदस्यों के पास हथियार नहीं थे, तो गृहमंत्री ने बताया, ‘मुझे आधिकारिक रूप से सूचित किया गया है कि उनके पास हथियार थे।’ जब उनसे पूछा गया कि क्या वह इस मुद्दे पर शमी से स्थिति साफ करने के लिए बातचीत करेंगे, तो उन्होंने इससे इनकार किया।

सिंह ने कहा, ‘सिमी के सदस्य दुर्दान्त अपराधी थे और उन्होंने ही पहले पुलिस पर गोलियां चलाई। पुलिस ने अपने बचाव में गोलियां चलाई, जिसमें सिमी सदस्य मारे गए। सिमी के आतंकवादी हथियार बनाने में माहिर थे। उन्होंने एक प्लेट से एक चाकू बनाकर जेल में एक प्रधान आरक्षक का गला रेतकर हत्या कर दी। उस चाकू को वे वहीं छोड़ गए।’ 

सिंह ने कहा, ‘‘हो सकता है कि उन्होंने शस्त्र जेल से प्राप्त किये हों या फरार होने के बाद बाहर से। इन सबकी विस्तार से जांच की जा रही है।’ इसके बाद एटीएस प्रमुख शमी से उनकी प्रतिक्रिया लेने के सभी प्रयास विफल रहे।