सोनू सूद 40 हजार मजदूरों को रोजगार पाने में करेंगे मदद! विदेशी कंपनी ने दी 250 करोड़ की फंडिंग

प्रवासी रोजगार पोर्टल का उद्देश्य बेरोजगारों को नौकरी के लिए जरूरी स्किल सीखाने और उन्हें उनके स्किल्स के मुताबिक नौकरी दिलाना है.

सोनू सूद 40 हजार मजदूरों को रोजगार पाने में करेंगे मदद! विदेशी कंपनी ने दी 250 करोड़ की फंडिंग
फिल्म एक्टर सोनू सूद. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः सोनू सूद ने इस साल जुलाई में Pravasi Rojgar नामक ऑनलाइन रोजगार पोर्टल लॉन्च किया था. सोनू सूद ने यह पोर्टल एक एड-टेक और स्किलिंग कंपनी Schoolnet India के साथ साझेदारी में लॉन्च किया था. अब खबर आयी है कि इस पोर्टल को 250 करोड़ रुपए की फंडिंग मिली है. दरअसल सिंगापुर की GoodWorker कंपनी ने यह फंडिंग की है. 

प्रवासी रोजगार पोर्टल का उद्देश्य बेरोजगारों को नौकरी के लिए जरूरी स्किल सीखाने और उन्हें उनके स्किल्स के मुताबिक नौकरी दिलाना है. गुडवर्कर एक जॉब मैचिंग कंपनी है, जो श्रमिकों को उनके आसपास होने वाले रोजगार के बारे में बताती है और उन्हें जरूरी स्किल भी सिखाती है. गुडवर्कर, सोनू सूद और स्कूलनेट के साथ मिलकर अगले डेढ़ साल में 250 करोड़ रुपए के निवेश से एक जॉइंट वेंचर बनाएगी. 

'काम करो और छुट्टी भी मनाओ', सरकार को भा रहा 'WORK from HOME', जल्द आ सकता है सिस्टम

यह जॉइंट वेंचर अगले साल यानि कि 2021 में अपना काम शुरू करेगा.  फंडिंग मिलने पर सोनू सूद ने कहा है कि "यह साझेदारी लाखों युवाओं के लिए एक बेहतर जीवन देने और आजीविका हासिल करने के मेरे सपने को साकार करने में मदद करेगी. हमारा लक्ष्य प्रवासी श्रमिकों को नौकरी की संभावनाओं को बेहतर बनाने का मौका देना है".

सोनू सूद ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मैं कई प्रवासी मजदूरों के संपर्क में आया था और उन सभी की एक ही चिंता थी कि लॉकडाउन के बाद उन्हें नौकरी कैसे मिलेगी. लोगों के आशीर्वाद से मैंने समान सोच वाले लोगों के साथ आने की कोशिश की और इसी कड़ी में स्कूलनेट के साथ साझेदारी की.

एसबीआई में PO के 2000 पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी, अप्लाई @sbi.co.in

सोनू सूद का कहना है कि इस प्लेटफॉर्म की मदद से करीब 40 हजार मजदूरों को नौकरी मिलेगी. भविष्य में इसकी मांग और भी ज्यादा बढ़ेगी. हम इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से बड़ी जनसंख्या की मदद करना चाहते हैं.

वहीं गुडवर्कर कंपनी की तरफ से कहा गया है कि हम पहले ही भारत में निवेश की योजना बना रहे थे. जब हमे सोनू सूद और स्कूलनेट के प्रवासी रोजगार के बारे में पता चला और ये पता चला कि किस तरह से वह 400 जिलों में पहुंच चुके हैं. हमने साथ आने का फैसला किया ताकि सही टैलेंट को ढूंढा जा सके.

Video:डॉक्टर पत्नी का आरोप, पति जबरदस्ती कुबूल करवाना चाहता है इस्लाम

WATCH LIVE TV