दिग्विजय सिंह के खिलाफ आरोप लगाने वाले उमंग सिंघार साबित हुए 'अनुशासनहीन': सूत्र

करीब तीन महीने पहले उमंग सिंघार और दिग्विजय सिंह के बीच विवाद पैदा हुआ था. उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह के खिलाफ अवैध रेत खनन (Illegal sand Mining) आदि कई गंभीर आरोप लगाए थे. 

दिग्विजय सिंह के खिलाफ आरोप लगाने वाले उमंग सिंघार साबित हुए 'अनुशासनहीन': सूत्र
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खुद बीच में पड़कर इस विवाद को बढ़ने से रोका था.

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) में वन मंत्री उमंग सिंघार (Umang Singhar) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. दरअसल, करीब तीन महीने पहले वन मंत्री उमंग सिंघार ने एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के खिलाफ जमकर बयानबाजी की थी. उमंग सिंघार ने उस दौरान सार्वजनिक तौर पर दिग्विजय सिंह पर कई आरोप लगाए थे. बताया जा रहा है कि इस मामले में कांग्रेस की केंद्रीय अनुशासन समिति (central disciplinary committee) के अध्यक्ष एके अंटोनी की रिपोर्ट के परीक्षण में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और शिवराज पाटिल ने उमंग सिंघार को दोषी पाया है. 

सूत्रों की मानें तो, उमंग सिंघार के खिलाफ आई इस रिपोर्ट पर केंद्रीय आलाकमान के पास भेज दिया गया है. बताया जा रहा है कि इस मामले पर जल्द ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी फैसला करते हुए बड़ी कार्रयवाही कर सकती हैं. बता दें कि दिग्विजय सिंह को गांधी परिवार और खासकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का काफी करीबी माना जाता है.

दरअसल, करीब तीन महीने पहले उमंग सिंघार और दिग्विजय सिंह के बीच विवाद पैदा हुआ था. वन मंत्री उमंग सिंघार ने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के खिलाफ अवैध रेत खनन (Illegal sand Mining) आदि कई गंभीर आरोप लगाए थे. वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खुद बीच में पड़कर इस विवाद को बढ़ने से रोका था. बता दें कि इसके बाद ये मामला कांग्रेस की अनुशासन समिति को भेजा गया था. वहीं, सूत्रों के अनुसार, इस मामले में उमंग सिंघार क दोषी पाया गया है.