सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- महाकालेश्वर में पंचामृत पूजन और शिवलिंग घिसने पर लगाई रोक

विश्व प्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के क्षरण मामले को लेकर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया.

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- महाकालेश्वर में पंचामृत पूजन और शिवलिंग घिसने पर लगाई रोक
फाइल फोटो

मनोज जैन /उज्जैन : विश्व प्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के क्षरण मामले को लेकर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया. कोर्ट ने क्षरण को रोकने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए पंचामृत पूजन पर रोक के साथ-साथ श्रद्धालुओं द्वारा शिवलिंग को घिसने और रगड़ने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही महाकाल मंदिर प्रबंध समिति को आदेश दिया है कि मंदिर समिति क्षरण रोकने के उपायों को तत्काल लागू करें. 

विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर आस्था का बड़ा केंद्र है. जहां श्रद्धालु मंदिर के गर्भ गृह तक जाकर शिवलिंग को छूकर भगवान से आशीर्वाद लेते हैं, लेकिन इस बीच 2013 में उज्जैन की सारिका गुरु नामक महिला ने महाकाल मंदिर में हो रहे शिवलिंग क्षरण को लेकर हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसके बाद यह केस सुप्रीम कोर्ट चला गया. तभी से लगातार सुनवाई के बाद मंगलवार सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है. उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह की मानें तो प्रारंभिक रूप से अभी फैसले की कुछ बातें पता चल पाई है जिसमें खासतौर पर

अब आम श्रद्धालु नहीं करा पाएंगे पंचामृत अभिषेक 

शासकीय पूजन में ही हो सकेगा पंचामृत पूजन

केवल दूध और जल ही चढ़ा पाएंगे श्रद्धालु 

शिवलिंग पर घिसना और रगड़ना भी प्रतिबंधित 

दरअसल दूध दही घी शक्कर और फलों का रस मिलाकर पंचामृत को तैयार किया जाता है. इसके बाद पूजन विधि में पंचामृत को शिवलिंग पर रगड़ कर पूजन अभिषेक किया जाता है. कोर्ट ने आम श्रद्धालुओं द्वारा दर्शन के दौरान शिवलिंग को रगड़ने और घिसने में पर पाबंदी लगा दी है. 

ये भी पढ़ें : शिवराज का तंज, कांग्रेस ने तीन बार प्रणब दा को लुभाया पर प्रधानमंत्री नहीं बनाया

फैसला सुनाने के बाद मंगलवार को जस्टिस अरुण मिश्रा साथी जजों से बोले, "शिवजी की कृपा से ये आखिरी फैसला भी हो गया." दरअसल, जस्टिस अरुण मिश्रा बुधवार को रिटायर होने वाले हैं. सोमवार को उन्होंने प्रशांत भूषण अवमानना केस समेत चार मामलों में फैसला सुनाया था. मंगलवार को महाकालेश्वर मंदिर के प्रबंधन को लेकर आदेश सुनाने से पहले AGR मामले पर भी फैसला सुनाया. 

WATCH LIVE TV: