close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिवलिंग क्षरण और मंदिर स्ट्रक्चर पर सुप्रीम कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट, पहले भी दिए थे संरक्षण के आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर प्रबंधन समिति से शिवलिंग क्षरण के साथ ही मंदिर के स्ट्रक्चर को लेकर भी रिपोर्ट मांगी है, जिसके बाद अब मंदिर प्रशासन पहले मंदिर के स्ट्रक्चर की मजबूती की जांच करेगी.

शिवलिंग क्षरण और मंदिर स्ट्रक्चर पर सुप्रीम कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट, पहले भी दिए थे संरक्षण के आदेश
सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर प्रबंध समिति से मंदिर के स्ट्रक्चर की जांच कराने के लिए कहा था. (फाइल फोटो)

उज्जैनः बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल मंदिर में स्थापित शिवलिंग को हो रहे नुकसान को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर प्रबंधन समिति से सात दिनों के अंदर रिपोर्ट मांगी है. सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर प्रबंधन समिति से शिवलिंग क्षरण के साथ ही मंदिर के स्ट्रक्चर को लेकर भी रिपोर्ट मांगी है, जिसके बाद अब मंदिर प्रशासन पहले मंदिर के स्ट्रक्चर की मजबूती की जांच करेगी और उसके बाद यह रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपेगी.

बता दें शिवलिंग क्षरण और मंदिर के स्ट्रक्चर को लेकर लगाई गई याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले भी मंदिर प्रशासन को शिवलिंग के संरक्षण के आदेश दिए थे. बता दें उज्जैन के बाबा महाकाल के दर्शन के लिए हर रोज हजारों श्रद्धालू आते हैं, वहीं सावन के दौरान श्रद्धालुओं की संख्या में भारी इजाफा होता है. ऐसे में कई बार अनहोनी की आशंका बनी रहती है, जिसके चलते सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर प्रबंध समिति से मंदिर के स्ट्रक्चर की जांच कराने के लिए कहा था.

देखें लाइव टीवी

Sawan 2019: गैवीनाथ में वर्षों से विराजमान है खंडित शिवलिंग, सैकड़ों साल पुराना है इतिहास

बता दें 5 अगस्त को नागपंचमी पर्व के कारण मंदिर प्रबंधन समिति की यह रिपोर्ट काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. माना जा रहा है कि नागपंचमी पर मंदिर के ऊपरी भाग में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं के दबाव को ध्यान में रखते हुए मंदिर समिति बड़ा फैसला ले सकती है.

Sawan 2019: सावन में मंगलवार को रखें मंगला गौरी व्रत, मिलता है अखंड सौभाग्य का वरदान

बता दें हाल ही में मंदिर परिसर में लगे पेड़ की शाखा से एक महिला श्रद्धालु टकरा गई थी, जिससे महिला को कई गंभीर चोटें भी आई थीं. इसके बाद प्रशासन ने मंदिर परिसर में लगे सभी पेड़ पौधों की छटाई भी करवाई थी. साथ ही बारिश के चलते सुधार कार्य भी करवाया गया था.