इंदौर: गर्मी में भी कायम स्वाइन फ्लू का कहर, 100 दिनों में 57 मरीज मरे

गर्मी के मौसम में भी एच1एन1 वायरस की घातक सक्रियता से चिकित्सा जगत के जानकार भी चिंतित हैं.

इंदौर: गर्मी में भी कायम स्वाइन फ्लू का कहर, 100 दिनों में 57 मरीज मरे
(प्रतीकात्मक फोटो)

इंदौर: मध्यप्रदेश के इंदौर में गर्मी के मौसम के दौरान तापमान में दिनों-दिन बढ़ोतरी के बावजूद यहां एच1एन1 वायरस का कहर बरकरार है. स्वाइन फ्लू के प्रकोप से बुधवार को यहां एक और मरीज की मौत हो गई. नतीजतन गुजरे 100 दिनों में इस घातक बीमारी के कारण स्थानीय अस्पतालों में दम तोड़ने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 57 हो गई है. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि एच1एन1 संक्रमण के कारण 65 वर्षीय महिला ने शहर के एक निजी अस्पताल में आखिरी सांस ली. 

उन्होंने बताया कि एक जनवरी से अब तक स्थानीय अस्पतालों के कुल 194 मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है. इनमें से 57 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है. मृतकों में शामिल 26 मरीज इंदौर जिले के बाहर के निवासी थे.

मौसम विभाग के मुताबिक इंदौर में बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान 40.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो मंगलवार के मुकाबले 1.1 डिग्री सेल्सियस अधिक है.

चिकित्सा जगत के जानकार भी चिंतित
बहरहाल, गर्मी के मौसम में भी एच1एन1 वायरस की घातक सक्रियता से चिकित्सा जगत के जानकार भी चिंतित हैं. मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के सेवानिवृत्त क्षेत्रीय निदेशक डॉ. शरद पंडित ने से कहा, 'गुजरे बरसों में देखा गया था कि आमतौर पर स्वाइन फ्लू का प्रकोप सर्दियों में अपेक्षाकृत ज्यादा रहता है और गर्मी का मौसम आते-आते इसका असर खत्म या कम हो जाता है. लेकिन गर्मी के मौसम में भी इस रोग के मौजूदा प्रकोप के मद्देनजर लगता है कि एच1एन1 वायरस ने ऊंचे तापमान के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर ली है.'

उन्होंने कहा, 'एच1एन1 वायरस की जेनेटिक संरचना तेजी से बदल रही है. लिहाजा सरकार को स्वाइन फ्लू के प्रकोप से निपटने के लिये नयी रणनीति बनाने की जरूरत है.'