जबलपुर: जिंदा जलाई गई किशोरी की हुई मौत, दबंगों ने छोटी सी बात पर लगा दी थी आग

मृतका के परिजन अब आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. परिजनों ने कहा कि यदि आरोपियों को कड़ी सजा नहीं सुनाई जाएगी तो, ऐसे में उनके हौसले बुलंद होंगे.

जबलपुर: जिंदा जलाई गई किशोरी की हुई मौत, दबंगों ने छोटी सी बात पर लगा दी थी आग
वहीं, इस घटना के बाद कमलनाथ सरकार द्वारा महिला अपराधों की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

कर्ण मिश्रा/जबलपुर: मध्य प्रदेश के जबलपुर में महिला अपराधों पर लगाम लगा पाना बेहद मुश्किल नजर आ रहा है. बीते रविवार को जबलपुर के बेलखेड़ा थाना क्षेत्र के हिनोतिया गांव में दबंगो की ज्यादती का शिकार हुई 18 वर्षीय किशोरी ने इलाज के दौरान मंगलवार को दम तोड़ दिया. किशोरी को दबंगो ने अपने खेत से बिना अनुमति जाने की इतनी निर्मम सजा दी कि वो तड़पते हुए ज़िंदगी की जंग ही हार गई. दबंगों ने किशोरी को पेट्रोल डालकर ज़िंदा जला दिया था. 

दरअसल, खेत के बीच किशोरी के गुजरने के मामूली विवाद पर गांव के ही दबंगों ने पहले किशोरी के परिवार पर कुल्हाड़ी से हमला कर लहूलुहान किया था. इसके बाद भी जब कसर पूरी नही हुई तो परिवार की 18 वर्षीय किशोरी को दबंगों ने आग के हवाले कर दिया था. बीते शनिवार हुई इस घटना के बाद किशोरी को तत्काल निजी अस्पताल मे भर्ती कराया गया था. जहां ज़िंदगी और मौत की जंग लड़ रही पीड़िता की सांसें मंगलवार सुबह थम गईं. इस मामले में पुलिस ने 6 आरोपियों में सें 5 आरोपी मिहीलाल, नौनेलाल, गोविंद चौधरी, प्रहलाद पटेल और राहुल पटेल को गिरफ्तार किया था. वहीं, फरार आरोपी छुट्टन उर्फ उत्तम ठाकुर को पकड़ने के लिए लगातार संभावित स्थानों में दबिश दी जा रही है.

मृतका के परिजन अब आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. परिजनों ने कहा कि यदि आरोपियों को कड़ी सजा नहीं सुनाई जाएगी तो, ऐसे में उनके हौसले बुलंद होंगे. वे समाज में अन्य महिला अपराधों को कारित करने से नहीं चूकेंगे. वहीं, इस घटना के बाद कमलनाथ सरकार द्वारा महिला अपराधों की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों पर सवाल खड़े हो रहे हैं.