ईद मिलादुन्नबी पर नहीं निकाला जाएगा जुलूस, जिला प्रशासन और मुस्लिम धर्मगुरुओं के बीच बैठक में फैसला

बीते एक सप्ताह से जारी मैराथन बैठकों के दौर के बाद प्रशासन ने यह अंतिम निर्णय लिया है. जबलपुर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने कहा की जुलूस निकालने से इस बार मना किया गया है, मस्जिद में ही नमाज अदा कर त्यौहार मनाए. 

ईद मिलादुन्नबी पर नहीं निकाला जाएगा जुलूस, जिला प्रशासन और मुस्लिम धर्मगुरुओं के बीच बैठक में फैसला

जबलपुर: कल देश भर में मुस्लिम समुदाय द्वारा ईद मिलादुन्नबी का त्यौहार मनाया जाना है. ऐसे में कोरोनाकाल में किस तरह से त्यौहार को मनाया जाए इसको लेकर जबलपुर में मुफ़्ती ए आजम के घर जिला प्रशासन और मुस्लिम धर्मगुरुओं के बीच गोपनीय बैठक आयोजित हुई. बैठक में इस बार बड़ा निर्णय लिया गया है, जिसके तहत ईद मिलादुन्नबी पर जुलूस नहीं निकाला जाएगा. 

VIDEO: प्रचार के लिए पहुंचे केन्द्रीय मंत्री लेकिन बीजेपी प्रत्याशी ही रहा गायब

गाइडलाइन का पालन करना होगा
मस्जिदों और ईदगाहों में इसपर्व को मनाते हुए प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करना होगा. बता दें कि इस्लाम धर्म के सबसे बड़े गुरु पैगम्बर-ए-इस्लाम-मोहम्मद साहब के जन्मदिवस को ईद मिलादुन्नबी के रूप में पूरे देश में मनाया जाता है. जहां इस्लामिक तारिक के अनुसार 12 रबीउल अव्वल के महीने में ईदगाह,मस्जिदों में नमाज अता की जाती है, साथ ही जुलूस भी निकाले जाते रहे है. इस बार कोरोना को देखते हुए जुलूस पर पाबंदी लगाई गई है.   

आंसूभरी सियासतः कांग्रेसी प्रत्याशी के आंसुओं को BJP ने बताया नौटंकी, 'इमरती के लिए नहीं निकलते`

मुफ्ती-ए-आजम के बयान का इंतजार
बीते एक सप्ताह से जारी मैराथन बैठकों के दौर के बाद प्रशासन ने यह अंतिम निर्णय लिया है. जबलपुर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने कहा की जुलूस निकालने से इस बार मना किया गया है, मस्जिद में ही नमाज अदा कर त्यौहार मनाए. कलेक्टर ने पर्व को मनाने विस्तृत गाइडलाइन जारी किए जाने की बात कही है. जबकि इस मामले पर अभी तक मुफ़्ती ए आजम का बयान सामने नहीं आना कई सवाल पैदा भी कर रहा है. ऐसे में कयास लगाये जा रहे है कि जिला प्रशासन की गाइडलाइन सामने आने के बाद मुफ़्ती ए आजम अंतिम निर्णय लेकर अपना बयान जारी कर सकते है. 

WATCH LIVE TV