विधानसभा में उठेगा टीकमगढ़ के एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत का मामला, CBI जांच की मांग करेगी कांग्रेस

टीकमगढ़ के खरगापुर में एक परिवार के 5 सदस्यों की मौत मामले में पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर का बयान आया है. उन्होंने कहा कि मामला संदिग्ध है. इस मुद्दे को विधानसभा में उठाकर सीबीआई जांच की मांग की जाएगी. सरकार को कम से कम स्पेशल  (एसआईटी) का गठन तो कर ही देना चाहिए.

विधानसभा में उठेगा टीकमगढ़ के एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत का मामला, CBI जांच की मांग करेगी कांग्रेस
खरगापुर में पीड़ित परिवार के लोगों से मुलाकात कर पूर्व मंत्री ने यह बात कही.

टीकमगढ़: टीकमगढ़ के खरगापुर में एक परिवार के 5 सदस्यों की मौत मामले में पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर का बयान आया है. उन्होंने कहा कि मामला संदिग्ध है. इस मुद्दे को विधानसभा में उठाकर सीबीआई जांच की मांग की जाएगी. सरकार को कम से कम स्पेशल  (एसआईटी) का गठन तो कर ही देना चाहिए. जिससे घटना की अलग से जांच हो सके. 

PHOTOS: मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में तबाही वाली बारिश, कहीं घरों में घुसा पानी तो कहीं सड़कें ही डूब गईं

क्या कहा पूर्व मंत्री ने?
पूर्व मंत्री ने पुलिस की जांच पर सवाल निशान लगाए. उन्होंने कहा कि इसे विधानसभा में उठाकर की सीबीआई जांच की मांग करेंगे. अगर सरकार को सीबीआई से जांच कराने में कुछ तकलीफ हो तो कम से कम से एसआईटी गठित करके इस घटना की जांच अलग से हो. इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो. निर्दोष हो जो फंसे नहीं और दोषी छूटे नहीं. यह बात उन्होंने खरगापुर में पीड़ित परिवार के लोगों से मुलाकात में कही. 

क्या हुआ था टीकमगढ़ में 23 अगस्त को?
23 अगस्त को प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में एक ही परिवार के 5 सदस्यों की संदिग्ध मौत हो गई थी. परिवार के 5 सदस्यों के शव फांसी से लटके मिले थे. मरने वालों में दो पुरुष, दो महिलाएं और एक 4 वर्ष का बच्चा शामिल था. इस मामले में पुलिस ने 9 लोगों को गिरफ्तार किया था.

घटिया चावल मामलाः बालाघाट के आपूर्ति विभाग प्रबंधक और मंडला के फूड इंस्पेक्टर निलंबित, चावल गोदामों की जांच के आदेश

25 अगस्त को स्थानीय लोगों ने पुलिस जांच पर उठाए थे सवाल
मामले में पुलिस ने पांचों की मौत का कारण सिर्फ आत्महत्या बताया था. मामले में पुलिस आत्महत्या के एंगल से जांच कर रही है, लेकिन स्थानीय लोगों का कहना था कि पूरे परिवार के लोगों को जमीनी विवाद के चलते मौत के घाट उतारा गया है. इसे लेकर 25 अगस्त को स्थानीय दुकानदारों ने नगर की सभी दुकानों को भी बंद रख विरोध पुलिस की कार्यप्रणाली का विरोध किया था. लोगों ने आरोप लगाया था कि पुलिस जांच में हीलाहवाली कर रही है. इसलिए मामले की जांच उच्च स्तरीय कमेटी से कराई जाए.

पूर्व मंत्री ने कहा- CBI नहीं तो SIT ही गठित कर
इस मुद्दे को लेकर पहले भी लोगों ने पूर्व मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर से मिले थे और जांच कराने की मांग की थी. आज पीड़ित परिवार से मिलकर पूर्व मंत्री ने बयान दिया कि मामला संदिग्ध है. इसे विधानसभा में उठाया जाएगा और सीबीआई जांच की मांग की जाएगी. वहीं उन्होंने कहा कि सरकार को कम से कम एसआईटी से जांच कराना चाहिए.