बेजुबानों के साथ हैवानियतः पहले टॉर्चर किया फिर जहर देकर मार डाले 46 बंदर, लोगों में भारी गुस्सा

स्थानीय लोगों का कहना है कि बंदरों को जहर देने के साथ ही टॉर्चर भी किया गया था क्योंकि जो बंदर जिंदा मिले, वह हिल भी नहीं पा रहे थे.

बेजुबानों के साथ हैवानियतः पहले टॉर्चर किया फिर जहर देकर मार डाले 46 बंदर, लोगों में भारी गुस्सा

नई दिल्लीः बेजुबानों के साथ हैवानियत का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. दरअसल कर्नाटक के हासन जिले में 46 बंदरों को पहले टॉर्चर किया गया और फिर उन्हें जहर देकर मार डाला. इसके बाद आरोपियों ने मरे हुए बंदरों को बोरों में भरकर खुले में फेंक दिया. घटना को लेकर लोगों में भारी गुस्सा है और सोशल मीडिया पर लोग दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं. 

क्या है मामला
घटना कर्नाटक के हासल जिले की है. जहां के चौडेनहल्ली गांव के पास सड़क पर बोरे पड़े मिले. जब लोगों ने देखा तो उनमें मृत बंदर थे, जिन्हें जहर देकर मारा गया था. इतनी बड़ी संख्या में बेजुबानों की हत्या से स्थानीय लोग हैरान रह गए. बताया जा रहा है कि जब बोरे खोले गए तो उनमें कुछ बंदर घायल अवस्था में मिले, जिन्हें स्थानीय लोगों द्वारा तुरंत पानी पिलाया गया. 14 बंदरों को बचा लिया गया है. सकलेशपुर थाना पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. 

स्थानीय लोगों का कहना है कि बंदरों को जहर देने के साथ ही टॉर्चर भी किया गया था क्योंकि जो बंदर जिंदा मिले, वह हिल भी नहीं पा रहे थे. घटना की सूचना पाकर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे. जिसके बाद मृत बंदरों को दफनाया गया. पुलिस मामले की जांच में जुटी है. पुलिस का मानना है कि बंदरों को जहर देकर मारा गया है. वहीं घटना को लेकर सोशल मीडिया पर भारी गुस्सा है. लोग इस हैवानियत के दोषियों को पकड़ने और उन्हें कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं. 

300 कुत्तों को जहर देकर मारा
कर्नाटक के हासल में घटी घटना बेजुबानों के साथ हैवानियत की पहली घटना नहीं है. आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले में 300 आवारा कुत्तों को जहर देकर मारने का मामला सामने आया है. आशंका जताई जा रही है कि इन कुत्तों को पहले पकड़ा गया और फिर इन्हें जहर देकर मार डाला गया. जब इन कुत्तों की लाशों को दफनाया जा रहा था, तब कुछ लोगों ने इसे देख लिया और मामले का खुलासा हुआ. फिलहाल फाइट फॉर एनिमल्स एक्टिविस्ट चल्लापल्ली श्रीलता ने मामले की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई है, जिसके बाद कलेक्टर ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं.