छत्तीसगढ़ का एक गांव ऐसा भी जहां अफवाहों पर फिरा पानी, प्रशासन गदगद!

जनप्रतिनिधियों ने समझदारी से काम लिया. यहां के लोगों ने वैक्सीन को गांव के लिए शुभ माना. 

छत्तीसगढ़ का एक गांव ऐसा भी जहां अफवाहों पर फिरा पानी, प्रशासन गदगद!
वैक्सिनेशन

गरियाबंद: कोरोना और उसकी वैक्सीन को लेकर ग्रामीण इलाकों में फैले अंधविश्वास और अफवाहों से जुड़ी ढेर सारी खबरें तो आपने सुनी या देखी होंगी. मगर आज हम आपको ग्रामीण इलाके की कोरोना से जुड़ी एक ऐसी खबर बताने जा रहे है जिसमें बचाव और उपचार के साथ लोगों की आस्था जुड़ी है. और अफवाहों पर लगाम लगा है.

अफवाहों को किया दरकिनार
वैसे तो गरियाबंद का तेतलखुंटी गांव जिले के अन्य गांवो की तरह ही एक आम गांव है. शुरू में कोरोना और उसकी वैक्सीन को लेकर यहां भी कई तरह की अफवाहें फैलाई गयी. हालात ये हुए कि अनहोनी के डर से कोई भी वैक्सिनेशन लगवाने सामने नहीं आया. मगर गांव के रहने वाले लीलाधर साहू के साथ अन्य बुजुर्गों और तपेश्वर ठाकुर स्थानीय नेता जैसे जनप्रतिनिधियों ने समझदारी से काम लिया. यहां के लोगो ने वैक्सीन को गांव के लिए शुभ माना. हर शुभ कार्य की तरह गांव में वैक्सिनेशन का काम शुरू करने से पहले बकायदा ग्राम देवी की पूजा की. ग्रामीणों के मुताबिक 24 घण्टे की लगातार पूजा अर्चना के बाद ग्राम देवी ने वैक्सिनेशन से कोई अनहोनी नहीं होने का आशीर्वाद देते हुए वैक्सीन लगवाने की अनुमति दी. उसके बाद गांव में बड़ी तेजी से वैक्सीन लगवाना शुरू हुआ. वैक्सीन लगवाने के बाद किसी के साथ अबतक कोई अनहोनी नहीं हुई.

वैक्सिनेशन की दौड़ में अव्वल
जीआर साहू (RMA) ने बताया कि अब गांव के हालात ये है कि 45+ उम्र के लगभग सभी लोग वैक्सीन के दोनों डोज़ लगवा चुके है. यही नहीं 18+ उम्र वालों के लिए वैक्सिनेशन शुरू हुआ तो उसमें भी ग्रामीणों का काफी उत्साह देखने को मिला. गांव में आयोजित दो दिवसीय शिविर में 223 लोगों ने अपना पहला डोज लगवा लिया. कुल 1983 की आबादी वाले इस गांव में अबतक 945 डोज़ वैक्सीन लग चुकी है. और प्रतिशत के हिसाब से यह गांव अब ज़िले में वैक्सिनेशन को लेकर पहले स्थान पर है.

आसपास के गांव हुए प्रोत्साहित
तेतलखुंटी में हुए सफल वैक्सिनेशन का असर अब यहां के आसपास गांवो में भी देखने को मिलने लगा है. बजाड़ी गांव के सरपंच वरुण कुमार सोरी ने बताया कि उनके गांव में भी तेतलखुंटी की तरह पहले ग्राम देवी से पूजा अर्चना कर वैक्सिनेशन की इजाज़त ली गयी. गांव के सरपंच के मुताबिक ग्राम देवी ने अनुमति दे दी है.अब उनके गांव के सभी लोग वैक्सिनेशन करवाएंगे.

प्रशासन गदगद
अफवाहों को दरकिनार कर तेतलखुंटी में हुए सफल वैक्सिनेशन से स्थानीय प्रशासन गदगद है. मैनपुर एसडीएम सूरज साहू ने विकासखंड के बाकी गांववासियों को भी तेतलखुंटी वासियों से सीख लेने की सलाह दी है. सभी वैज्ञानिक और शायद भगवान भी वैक्सिनेशन को ही कोरोना खत्म करने का एकमात्र उपाय मानते है. तेतलखुंटी में हुए आस्था और विज्ञान के संगम को देखकर तो ऐसा ही लगता है.

ये भी पढ़ें : 9 महीनों से इस गांव के लोगों को नहीं मिला राशन, कंदमूल के सहारे गुजार रहे जीवन!

WATCH LIVE TV